समाचार
अफगानिस्तान संधि के तहत पाकिस्तानी आतंकवादियों के भारत में प्रत्यर्पण पर सहमत

भारत के सुरक्षा हितों को मजबूत करने और अफगानिस्तान के साथ अपने संबंधों को एक नई ऊँचाइयों पर ले जाने की अभूतपूर्व पहल में दोनों देश पाकिस्तानी आतंकवादियों को भारत को सौंपने पर सहमत हो गए हैं।

दोनों देशों ने एक प्रत्यर्पण संधि के संचालन के लिए सहमति व्यक्त की है जिसके तहत अफगानिस्तान में सक्रिय पाकिस्तानी आतंकवादियों का भारत में प्रत्यर्पण अब आसान होगा, इकनॉमिक टाइम्स  ने रिपोर्ट किया।

इस निर्णय से लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद के आतंकियों को बड़ा झटका लगा है। आपको बता दें कि दोनों अतंकवादी संगठनोंं के आतंकी वर्तमान में अफगानिस्तान में ही मौजूद हैं और इन आतंकवादियोंं को इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ पाकिस्तान की खुफिया इकाई (आईएसआई) का समर्थन प्राप्त है।

गौरतलब है कि दोनों देशों के बीच इस प्रत्यर्पण संधि के लिए साल 2016 में हस्ताक्षर किए गए थे जब अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने भारत आए हुए थे।

इस संधि के बाद भारत की आकांक्षाओं को साकार करने की संभावना जगी है। इस संधि से पाकिस्तानी धरती पर पाकिस्तान की सहायता से पल रहे अतंकवादी संगठनोंं के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने में आसानी होगी।