समाचार
मप्र- मुख्यमंत्री कमल नाथ के करीबियों पर आयकर विभाग की छापेमारी से गहमागहमी

आयकर विभाग के एक दल ने मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमल नाथ के करीबियों के देशभर में 50 से ज्यादा ठिकानों पर छापेमारी की है। इसके बाद सियासी घमासान शुरू हो गया। कांग्रेस सरकारी एजेंसियों के गलत इस्तेमाल का आरोप लगा रही है। वहीं, भाजपा इसे काली कमाई का नतीजा बता रही है।

टाइम्स ऑफ इंडिया  की रिपोर्ट के अनुसार, कमलनाथ के विशेष कार्याधिकारी (ओएसडी) प्रवीण कक्कड़ और सलाहकार आरके मिगलानी के ठिकानों पर सुबह तीन बजे आयकर अधिकारियों ने सीआरपीएफ जवानों की मौजूदगी में छापेमारी शुरू की। इंदौर और भोपाल में कक्कड़ तो दिल्ली में मिगलानी के बच्चों के घर पर छापेमारी हुई।

छिंदवाड़ा में भी कई जगहों पर तलाशी जारी है। इस मामले में राज्य की पुलिस को छापेमारी की कोई जानकारी नहीं दी गई। वहीं स्थानीय आयकर विभाग के अधिकारियों का कहना है कि छापे दिल्ली की टीमों ने मारे। उनके साथ हमारी भागीदारी कम है।

लोकसभा चुनाव से पहले की गई कार्रवाई ने कांग्रेस को बेचैन कर दिया है। आयकर अधिकारियों का कहना है, “बड़ी नगदी की जानकारी मिलने के बाद यह कार्रवाई की गई।” सूत्रों की मानें तो अब तक करीब 11 करोड़ रुपये की जानकारी मिली है। साथ ही दिल्ली, मप्र और गोवा में छापेमारी के दौरान कई दस्तावेज भी बरामद किए गए हैं। अब आयकर विभाग को इनका विवरण जारी करना है।

कार्रवाई के बाद दोनों राजनीतिक दलों के नेताओं की जुबानी जंग शुरू हो गई है। भाजपा के कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, “अब यह साफ हो गया है कि चोरों को चौकीदारों से शिकायत है।” इसके बाद कांग्रेस की शोभा ओझा ने कहा, “यह कार्रवाई राजनीतिक प्रतिशोध है। इसके जरिए कांग्रेस की छवि खराब करने की कोशिश की जा रही है।” कहा जा रहा है कि तीन विधानसभा चुनावों में कांग्रेस की जीत से नरेंद्र मोदी बौखलाए हुए हैं।

प्रवीण कक्कड़ पूर्व पुलिस अधिकारी हैं। 2004 में वह नौकरी छोड़कर कांग्रेस में आ गए थे। 2018 में वह कमलनाथ के ओएसडी बने। आरके मिगलानी 30 साल पहले कमलनाथ से जुड़े और उनके सलाहकार हैं। दोनों ने लोकसभा चुनावों की घोषणा से ठीक पहले 22 फरवरी को इस्तीफा दे दिया था।

इस कार्रवाई के बाद विजयवर्गीय ने ट्वीट किया, “आयकर विभाग के छापे में कमलनाथ के निजी सचिव के घर से करोड़ों रुपये का कालाधन जब्त किया गया।” इंदौर में आयकर अधिकारियों ने विजय नगर स्थित शोरूम, बीएमसी हाइट्स के ऑफिस, शालीमार टाउनशिप, जलसा गार्डन और भोपाल स्थित आवास पर छापेमारी की।