समाचार
प्रधानमंत्री किसान योजना- 24,500 करोड़ रुपये से 6.5 करोड़ खातों में पहली किश्त

प्रधानमंत्री किसान योजना के तहत 24,500 करोड़ रुपये से अधिक की राशि पहली किश्त के रूप में करीब 6.5 करोड़ किसानों के बैंक खातों में हस्तांतरित की गई है।

‘किसानों के लिए सार्वभौमिक बुनियादी आय’ थीम के साथ गुरुवार को भारत के तीसरे कृषि आउटलुक फोरम 2019 को संबोधित करते हुए कृषि सचिव संजय अग्रवाल ने कहा, “योजना के लिए 8.5 करोड़ किसानों ने पहले ही पंजीकरण करवा लिया है। करीब 3.5 बिलियन यानी 24500 करोड़ की पहली राशि 6.5 करोड़ किसानों के खातों में हस्तांतरित की गई है। ”

उन्होंने बताया, “किसानों की आय समर्थन की सीमा इस तथ्य से स्पष्ट है कि लगभग 11 लाख किसानों ने प्रधानमंत्री किसान योजना के माध्यम से 2,000 रुपये की राशि आने के उसी दिन वापस ले ली थी।”

इस योजना का विस्तार करते हुए सभा में वैश्विक संगठन और विदेशी प्रतिनिधि भी शामिल थे। सचिव ने कहा, “राज्य सरकारों द्वारा लाभार्थियों की पहचान की जा रही है। केंद्रीय योजना छोटे और सीमांत किसान परिवारों को प्रति वर्ष 6,000 रुपये की सहायता प्रदान कर रही है।”

उन्होंने आगे कहा, “कृत्रिम बुद्धिमता (एआई) और बड़ा डाटा कृषि क्षेत्र में बड़ी भूमिका निभा सकता है। सरकार प्रमुख योजनाओं के लिए पंजीकरण प्रक्रिया के माध्यम से किसानों के डाटा का आदान-प्रदान कर रही है। साथ ही सभी भूमि संबंधी विवरण डिजिटल किए जा रहे हैं। इसके अलावा बीमा, मृदा स्वास्थ्य कार्ड और किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) के अन्य आँकड़ों के जरिए किसानों की वास्तविक स्थिति और उनकी खेती को समझने के प्रयास किए जा रहे हैं।”

प्रधानमंत्री फासल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई) का कवर वार्षिक करीब 24,500 करोड़ रुपये है और इसमें करीब 2 करोड़ किसान शामिल हैं।