समाचार
चीन सरकार 2022 तक कंप्यूटर उपकरणों, सॉफ्टवेयरों को ‘विदेशी से स्वदेशी’ में बदलेगी

“3-5-2” के रूप में बनाई गई योजना के तहत, चीन सरकार ने आदेश दिया है कि सभी विदेशी कंप्यूटर उपकरणों और सॉफ्टवेयरों को तीन साल के भीतर सरकारी कार्यालयों और सार्वजनिक संस्थानों से हटा दिया जाए।

फाइनेंशियल टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार चीन सरकार एक बड़े पैमाने पर प्रतिस्थापन कार्यक्रम शुरू करेगी जिसके तहत विदेशी निजी कंप्यूटर (पीसी) उपकरण और सॉफ्टवेयर को 2020 में 30 प्रतिशत, 2021 में 50 प्रतिशत, और 2022 में 20 प्रतिशत करके अगले तीन सालों में हटा दिया जाएगा।

चीन सरकार द्वारा दिए गए निर्देश को एचपी, डेल और माइक्रोसॉफ्ट जैसी अमेरिकी बहुराष्ट्रीय कंपनियों के लिए एक झटका के रूप में देखा जा रहा है।

दरअसल अमेरिका ने चीनी प्रौद्योगिकी के उपयोग को सीमित करने का निर्णय किया था और चीन की यह योजना अमेरिकी सरकार के निर्णय के प्रतिशोध के रूप में उठाई गई है जिससे दोनों देशों के बीच जारी व्यापार युद्ध एक प्रौद्योगिकी युद्ध में बदता दिख रहा है।

रिपोर्ट के अनुसार इस निर्देश के परिणामस्वरूप अनुमानित दो से तीन करोड़ हार्डवेयर इकाइयों की आवश्यकता होगी और यह काम 2020 में शुरू होगा।

इसी साल 16 मई को अमेरिका के वाणिज्य विभाग ने हुआवे (चीनी कंपनी) को उस सूची में डाल दिया है जिससे अमेरिकी कंपनियाँ लाइसेंस के बिना हुआवे को तकनीक की आपूर्ति नहीं कर सकेंगी।

ट्रंप प्रशासन ने राष्ट्रीय सुरक्षा के मद्देनज़र अमेरिकी कंपनियों को अगली पीढ़ी के 5जी नेटवर्क के उपयोग हेतु हुआवे उपकरणों का उपयोग करने से रोकने के लिए उपाय भी शुरू किए हैं।

संयुक्त राज्य अमेरिका ने आरोप लगाया है कि हुआवे और इसके द्वारा व्यापक रूप से उपयोग की जाने वाली तकनीकों को संभावित रूप से चीनी सरकार द्वारा अमेरिका में जासूसी के लिए उपयोग किया गया है।

वहीं कंपनी ने दावे को खारिज करते हुए कहा है कि यह एक स्वतंत्र कंपनी है जिसका चीनी सरकार से कोई संबंध नहीं है।