समाचार
20 वर्षों में इस सत्र में हुआ सबसे अधिक काम, लोकसभा की कार्य कुशलता 128 प्रतिशत

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुआई वाली सरकार फिर से आने के बाद पिछले 20 साल में 17वीं लोकसभा के मौजूदा सत्र में सबसे ज़्यादा काम हुआ है। इसी तरह राज्यसभा में भी अपेक्षाकृत अधिक कामकाज हुआ है।

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, पीआरएस लेजिस्लेटिव का अध्ययन बताता है कि लोकसभा अपने तय समय से अधिक काम कर रही है। उसने विधायी कार्यों को पूरा करने के लिए दो बार मध्यरात्रि तक काम किया है। निचले सदन में मंगलवार तक कामकाज का स्तर 128 प्रतिशत रहा।

लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला ने सदन को बताया, “निचले सदन के सदस्यों ने 17 घंटे आम बजट, 13 घंटे रेलवे के लिए अनुदान और 7.44 घंटे सड़क एवं परिवहन के लिए अनुदान माँगों पर चर्चा की है। इसके अलावा, ग्रामीण विकास और कृषि मंत्रालयों के लिए अनुदान माँगों पर 10.36 घंटे और खेल एवं युवा मामलों के मंत्रालय से संबंधित मुद्दों पर 4.14 घंटे चर्चा की।”

ठीक इसी तरह राज्यसभा में भी एनडीए के बहुमत में न होने के बावजूद अधिक काम हुआ है। उच्च सदन के कामकाज का स्तर मंगलवार तक 98 प्रतिशत रहा। मालूम हो कि संसद का सत्र 17 जून से शुरू हुआ था, जो 26 जुलाई को खत्म होगा।