समाचार
भारतीय वायुसेना के राफेल विमानों ने लद्दाख में मिसाइलों के साथ भरी उड़ान

भारतीय वायुसेना ने आज (6 अप्रैल) लद्दाख में उड़ान भरते अपने राफेल लड़ाकू विमानों के छायाचित्र जारी किए हैं, जहाँ भारत और चीन के बीच अब भी तनावपूर्ण सैन्य गतिरोध बना हुआ है।

रक्षा ब्लॉग लाइवफिस्ट के अनुसार, राफेल लड़ाकू विमानों को यूरोपीय रक्षा प्रमुख एमबीडीए द्वारा निर्मित एमआईसीए एयर-टू-एयर मिसाइलों के साथ उड़ान भरते देखा गया था।

आईएएफ को डसॉल्ट एविएशन से लगभग 14 राफेल विमान मिले हैं। ये लड़ाकू विमान, जिनमें करीब तीन विमान पिछले महीने के अंत में पहुँचे थे, वे अंबाला एयरबेस पर तैनात हैं। डसॉल्ट एविएशन ने 7 और राफेल विमान भारतीय वायुसेना को सौंप दिए हैं। आईएएफ पायलटों के प्रशिक्षण के लिए ये लड़ाकू विमान फिलहाल अभी फ्रांस में ही हैं।

आईएएफ का दूसरा राफेल स्क्वाड्रन पश्चिम बंगाल के हाशिमारा में स्थित होगा। अंबाला और हाशिमारा में स्थित आईएएफ के राफेल स्क्वाड्रन वास्तविक नियंत्रण रेखा के साथ चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी की वायुसेना के खतरे से निपटने में सक्षम होंगे। अंबाला स्थित राफेल दस्ते के लड़ाकू विमानों को लद्दाख में तैनात किया जा सकता है। हाशिमारा स्थित एयरबेस सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश में चीन के साथ हिमालयी सीमा पर काम कर सकते हैं।

यह पहली बार है जब भारतीय वायुसेना के राफेल लद्दाख में देखे गए हैं। लद्दाख में उड़ान भरने वाले लड़ाकू विमानों के वीडियो गत वर्ष गतिरोध के दौरान सामने आए थे।