समाचार
यूपीआई से अगस्त में ₹2.85 लाख करोड़ की राशि संग सर्वाधिक 1.5 अरब बार लेन-देन

पूरे भारत में डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देते हुए यूनाइटेड पेमेंट इंटरफेस (यूपीआई) ने लगातार तीसरे माह अपने माध्यम से लेन-देन की संख्या में एक बड़ा रिकॉर्ड बनाया है।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, पहली बार यूपीआई के द्वारा लेने-देन की संख्या 1.5 अरब से अधिक हो गई है। कुल मिलाकर इस तरह यह अब तक के सबसे अधिक 1.56 अरब के ट्रांजेक्शन तक पहुँच गया है। इस बीच, यूपीआई के माध्यम से लेन-देन की जाने वाली राशि 2.85 लाख करोड़ रुपये थी। यह जुलाई की तुलना में मामूली रूप से कम थी, जब लेनदेन की संख्या 1.49 अरब थी और लेन-देन 2.90 लाख करोड़ रुपये का था।

यह भी ध्यान दिया जाना चाहिए कि अगस्त में एटीएम और माइक्रो-एटीएम से नकदी निकासी 1.36 लाख करोड़ रुपये की थी। यह यूपीआई के माध्यम से लेन-देन की गई आधी से भी कम राशि थी।

यूपीआई और अन्य इलेक्ट्रॉनिक भुगतान मोड को अपनाने और बढ़ावा देने के लिए सीबीडीटी ने कुछ दिनों पहले यह फैसला किया था कि इस तरह के लेन-देन पर कोई शुल्क बैंक नहीं लगाएगी। उन्होंने ग्राहकों से जो राशि ली है, उन्हें एकत्र करके वापस करने का निर्देश दिया था।

यह विकास तब आया, जब कुछ निजी क्षेत्र के बैंक जैसे एचडीएफसी, आईसीआईसीआई, कोटक महिंद्रा और एक्सिस बैंक ने प्रति माह एक निश्चित संख्या में लेन-देन के बाद फीस लेनी शुरू कर दी थी।