समाचार
वर्ष 2020 हेतु इसरो का संकल्प- मिशन आदित्य, गगनयान परीक्षण, दर्जन उपग्रह मिशन

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान केंद्र (इसरो) ने 2019 में अपनी अपार सफलता के साथ वर्ष 2020 में नए कीर्तिमान रचने की योजना बनाई है।

इकनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार इसरो लगभग एक दर्जन प्रमुख उपग्रह मिशनों, हाईप्रोफाइल अंतर्ग्रहीय मिशन आदित्य (सूर्य) को प्रक्षेपित करने और गगनयान मिशन की पहली मानव रहित परीक्षण-उड़ान का प्रक्षेपण करने की योजना बना रहा है। ऐसा कहा जा रहा है कि वर्ष 2020 में गगनयान में मानव जैसे दिखने वाले को ले जाया जाएगा।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार इसरो प्रमुख के सिवान ने कहा, “हम वर्ष 2020 में 10 से अधिक उपग्रह मिशन शुरू करने का लक्ष्य बना रहे हैं। इनमे उन्नत संचार उपग्रह गीसैट-1, गीसैट-12आर और पृथ्वी अवलोकन उपग्रह रिसैट-2बीआर2 और माइक्रोसैट (निगरानी के लिए) शामिल होंगे। वर्ष 2020 के मध्य तक हम आदित्य-एल1 (सूर्य) मिशन और दिसंबर में गगनयान की पहली मानव रहित परीक्षण-उड़ान शुरू करने का लक्ष्य भी रख रहे हैं।”

‘आदित्य-एल1’ सूर्य के कोरोना का निरीक्षण और अध्ययन करेगा, यह देखते हुए कि यह अभी भी अज्ञात है कि कोरोना इतने उच्च तापमान पर कैसे गर्म होता है। गौरतलब है कि कोरोना सूर्य की बाहरी परतें हैं जो हजारों किलोमीटर तक फैली हुई हैं।

इसरो प्रमुख के सिवान के अनुसार, आदित्य-एल1 कोरोना पर अपना विश्लेषण देगा। इसका अध्ययन आवश्यक है क्योंकि इसका जलवायु परिवर्तन पर बड़ा प्रभाव है।

आदित्य-एल1 को पृथ्वी से 0.15 करोड़ किलोमीटर दूर कक्षा में रखा जाएगा ताकि इसका चुंबकीय क्षेत्र उपग्रह पर लगे उपकरणों के साथ हस्तक्षेप न करे।

सूर्य के कोरोना के विश्लेषण के साथ, आदित्य-एल1 मिशन सूर्य के फोटो-क्षेत्र और वर्णमंडल पर भी अवलोकन प्रदान करेगा। यह कण भार सूर्य से निकलने वाले कण प्रवाह का भी अध्ययन करेगा।