समाचार
इमरान खान ने यूएनएससी में विफल होने के बाद भारत के खिलाफ ट्विटर पर उगला ज़हर

पाकिस्तान की चीन के सहयोग से कश्मीर मसले पर संयुक्त राष्ट्र में भारत को ना घेर पाने की बौखलाहट साफ नज़र आ रही है। प्रधानमंत्री इमरान खान ने इस प्रयास के विफल होने के बाद रविवार को ट्विटर पर अपनी भड़ास निकालते हुए नफरत फैलाई।

रिपोर्ट में बताया गया कि कैसे 17 मिनट की प्रेस वार्ता में संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी राजदूत सैयद अकबरुद्दीन ने यूएनएससी में पाकिस्तान और चीन द्वारा कश्मीर पर लगाए गए आरोपों का बिंदुवार खँडन किया था। साथ ही उन्होंने उन देशों के पत्रकारों से भी सवाल किए।

रिपोर्टों के अनुसार, पाकिस्तान को 14-1 के मत के साथ यूएनएससी में पूरी तरह से अलग-थलग कर दिया गया। चीन को छोड़कर कोई भी देश अनुच्छेद 370 को हटाने के विरोध में सहमत नहीं था।

लगता है कि इसका पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान पर गहरा असर पड़ा। उन्होंने भारत पर हिंदू विचारधारा के कब्जे का आरोप लगाते हुए कहा, “जातिवादी हिंदू विचारधारा और नेतृत्व ने कश्मीरियों को धमकाया है।”

इमरान खान ने नेहरू व गांधी के भारत के बारे में बात की। साथ ही परमाणु शस्त्रागार की सुरक्षा को लेकर चिंता जताते हुए अंतरराष्ट्रीय समुदाय से आग्रह किया कि वह इसका संज्ञान लें। मालूम हो कि यूएई जैसे देशों ने पहले ही धारा 370 को भारत का आंतरिक मामला बताते हुए उसका समर्थन किया था।