समाचार
रंजन गोगोई ने एसएन शुक्ला के खिलाफ महाभियोग लाने के लिए प्रधानमंत्री को लिखा पत्र

भारत के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर इलाहाबाद उच्च न्यायालय के न्यायमूर्ति एसएन शुक्ला को हटाने के लिए महाभियोग प्रस्ताव लाने का अनुरोध किया। एसएन शुक्ला एक आंतरिक समिति द्वारा कदाचार के दोषी पाए गए थे।

इंडियन एक्सप्रेस  की रिपोर्ट के अनुसार, अक्टूबर 2005 में इलाहाबाद उच्च न्यायालय के न्यायाधीश बने एसएन शुक्ला का कार्यकाल जुलाई 2020 तक है।

“जैसा कि न्यायमूर्ति शुक्ला के खिलाफ आरोपों को समिति ने इतना गंभीर पाया कि उन्हें हटाने की कार्रवाई शुरू करने के लिए किसी भी हाईकोर्ट में न्यायिक कार्य शुरू करने तक की इजाजत नहीं दी जा सकती है। इन परिस्थितियों में आपसे अनुरोध है कि आगे की कार्रवाई पर विचार किया जाए।”, मुख्य न्यायाधीश ने पत्र में लिखा।

रंजन गोगोई ने प्रधानमंत्री को महाभियोग प्रस्ताव पर पत्र जस्टिस शुक्ला की न्यायिक कार्यों को पुन: दिए जाने की माँग को खारिज करने के बाद लिखा है। एसएन शुक्ला के खिलाफ आरोप था कि उन्होंने मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया और सर्वोच्च न्यायालय के आदेशों के बावजूद एक निजी मेडिकल कॉलेज को शैक्षणिक वर्ष 2017-18 के लिए छात्रों के प्रवेश की अनुमति दी थी।

पैनल की रिपोर्ट के बाद तत्कालीन मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा ने एसएन शुक्ला को सलाह दी थी कि वे इस्तीफा दें या स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति लें लेकिन उन्होंने ऐसा कुछ भी करने से मना कर दिया था। इसके बाद दीपक मिश्रा ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश को तत्काल प्रभाव से शुक्ला से न्यायिक कार्य वापस लेने को कहा था।