समाचार
आईएमएफ ने की कोरोना से निपटने की नीतियों व वैक्सीन कूटनीति पर भारत की प्रशंसा

अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) की प्रमुख अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथन ने भारत की कोविड-19 से निपटने की नीतियों और वैक्सीन कूटनीति को लेकर प्रशंसा की है। उन्होंने कहा, “कोरोना के खिलाफ जंग लड़ने में भारत वास्तविकता में सबसे आगे रहा है।”

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर हुए डॉक्टर हंसा मेहता व्याख्यान के दौरान गीता गोपीनाथ ने कहा, “भारत ने अपनी वैक्सीन नीति को लेकर उल्लेखनीय कार्य किए हैं। दुनिया में कोविड-19 वैक्सीन का विनिर्माण केंद्र भारत में ही मिलेगा।”

आईएमएफ प्रमुख ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की भी खूब प्रशंसा की। उन्होंने कहा, “यह दुनिया का सबसे बड़ा टीका उत्पादक है और कोवैक्स सुविधा के लिए उत्पादन कर रहा है। वैश्विक महामारी से भारत लड़ने में सबसे आगे रहा है। भारत अपनी टीकाकरण नीतियों से वैश्विक स्वास्थ्य संकट में दुनिया की मदद में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।”

बता दें कि भारत ने कोविड-19 की वैक्सीन की करीब 56 लाख से अधिक खुराकें नेपाल, भूटान, मालदीव, म्यांमार, श्रीलंका समेत कई देशों को उपहार के रूप में दी हैं।