समाचार
केरल में देश के 35 प्रतिशत दैनिक मामले आ रहे हैं, लेकिन बकरीद पर प्रतिबंधों में छूट

केरल में लगातार कोविड-19 के मामलों में वृद्धि हो रही है। इन सबके बावजूद पिनाराई विजयन सरकार ने 21 जुलाई को पड़ने वाली बकरीद को देखते हुए तीन दिनों के लिए लॉकडाउन प्रतिबंधों को हटा दिया है।

यहाँ तक ​​​​कि स्थानीय निकायों में जहाँ परीक्षण में सकारात्मकता दर लगातार 15 प्रतिशत से ऊपर रही है, वहाँ पर भी लोगों को त्योहार की खरीदारी में छूट देने के लिए सोमवार को एक दिन का प्रतिबंध हटा दिया गया है।

दि इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, देश में 4.25 लाख सक्रिय कोविड-19 मामलों में से केरल में 1.25 लाख हैं। देश के दैनिक मामलों में राज्य की हिस्सेदारी लगातार 35 प्रतिशत के आसपास रही है।

भारतीय चिकित्सा संघ (आईएमए) ने राज्य सरकार के निर्णय की आलोचना करते हुए इसे चिकित्सा आपातकाल के समय अनुचित बताया है। आईएमए ने कहा, “जब जम्मू-कश्मीर, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड जैसे कई उत्तरी राज्यों ने सार्वजनिक सुरक्षा, पारंपरिक और तीर्थ यात्रा पर प्रतिबंध लगा दिया तो यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि केरल ने भीड़ को बढ़ावा देने वाले निर्णय लिए हैं।”

एलडीएफ सरकार ने धार्मिक समूहों के साथ व्यापारियों के संगठनों के लंबे कोविड लॉकडाउन से बढ़ते दबाव के मद्देनजर प्रतिबंध हटा दिए। प्रतिबंधों में छूट के तहत 18 से 20 जुलाई तक कपड़ा, जूते-चप्पल, आभूषण, घरेलू उपकरणों और इलेक्ट्रॉनिक दुकानों के साथ सभी प्रकार की मरम्मत की दुकानें भी खुली रहेंगी। पूजा स्थल भी अधिकतम 40 लोगों के लिए खुले रहेंगे।

इससे पहले, मुस्लिम धार्मिक समूहों ने सरकार से मस्जिदों में उपासकों को कोविड -19 मानदंडों के अनुपालन में अनुमति देने के लिए कहा था।