समाचार
आईआईटी हैदराबाद का दो वर्ष के शोध के बाद ब्लैक फंगस के लिए दवा बनाने का दावा

देश में ब्लैक फंगस के प्रकोप को देखते हुए आईआईटी हैदराबाद ने एक दवा तैयार की है, जो इस बीमारी को ठीक करने में बहुत प्रभावशाली साबित हो सकती है।

न्यूज़-18 की रिपोर्ट के अनुसार, प्रोफेसर सप्तऋषि मजूमदार, डॉ. चंद्रशेखर शर्मा और उनके पीएचडी विद्यार्थी मृणालिनी गेधाने व अनंदिता लाहा दो वर्ष से इस पर अध्ययन कर रहे थे। शोध पूरा होने के बाद प्रोफेसर इस पर पूरी तरह से विश्वास कर रहे हैं। उनका मानना है कि बड़े पैमाने पर इसका उत्पादन किया जा सकता है।

आईआईटी हैदराबाद के मुताबिक, यह समाधान बहुत कम कीमत पर उपलब्ध हो सकता है। 60 मिलीग्राम टैबलेट की कीमत केवल 200 रुपये हो सकती है। अभी ब्लैक फंगस के लिए बाहर से दवाएँ मंगवाई जा रही हैं।

आगे कहा गया कि इस प्रौद्योगिकी को बड़े स्तर पर उत्पादन के लिए उचित फार्मा साझेदारों को हस्तांतरित किया जा सकता है। इसकी उपलब्धता और किफायती दर को देखते हुए इस दवा के आपात और तत्काल परीक्षण की अनुमति दी जानी चाहिए।