समाचार
आईआईटी दिल्ली, खड़गपुर और मद्रास बनाएँगी कंपनी, जो देगी इंजीनियरिंग कॉलेजों को मान्यता

इंजीनियरिंग कॉलेजों को नेशनल बोर्ड ऑफ एक्रिडिटेशन (एनबीए) नहीं बल्कि आईआईटी की कंपनी मान्यता देगी। इंजीनियरिंग कॉलेजों को मान्यता देने को लेकर केंद्र सरकार ने नियमों में बदलाव किए हैं।

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, मान्यता देने के लिए आईआईटी दिल्ली, मद्रास और खड़गपुर मिलकर कंपनी बनाएँगी। कंपनी का संचालन मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) करेगा।

कंपनी के सीईओ पद के लिए इसी सप्ताह आवेदन मांगा जाएगा। फिर कंपनी को मान्यता दिलाई जाएगी। मान्यता देने वाली कंपनी पूरी तरह से स्वतंत्र होगी। इसमें मानव संसाधन विकास मंत्रालय, आईआईटी या एआईसीटीई किसी प्रकार का दखल नहीं देंगे।

अधिकारी के मुताबिक, एआईसीटीई से मान्यता प्राप्त इंजीनियरिंग कॉलेजों को पाठ्यक्रम, शिक्षण व मूल्याँकन, शोध-परामर्श व विस्तार कार्यक्रम, बुनियादी ढाँचा व संसाधन, विकास गतिविधियाँ, नेतृत्व और नवाचार के आधार पर एनबीए मान्यता देता था। मूल्याँकन के बाद ग्रेड से कॉलेज का स्तर तय होता था। हालाँकि, कंपनी अब इसे अपने आधार पर तय करेगी।