समाचार
ताइवान के साथ संबंधों को गहरा करने के लिए अमेरिका ने जारी किए नए दिशा-निर्देश

अमेरिकी विदेश विभाग ने नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं, जो ताइवान के समकक्षों के साथ अपने अधिकारियों के संबंधों को बढ़ावा देने की अनुमति देते हैं। इसका उद्देश्य अमेरिकी सरकार का देश से संबंध और गहरे करने का है, जो दोनों के बीच विकासशील अनौपचारिक साझेदारी पर भी प्रकाश डालेगा।

नए नियम संघीय भवनों में दोनों देशों के अधिकारियों के बीच कार्यस्तरीय बैठकों की अनुमति देते हैं। साथ ही ताइवान के प्रतिनिधि कार्यालय में भी, जो पहले प्रतिबंधित थे।

अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता नेड प्राइस ने दावा किया कि यह निर्णय समीक्षा के बाद लिया गया है। यह अमेरिका की लंबे समय से चली आ रही वन-चाइना नीति को लेकर भी स्पष्टता लाएगा। टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट में नेड प्राइस ने कहा, “ये नए दिशा-निर्देश ताइवान के साथ हमारे अनौपचारिक संबंधों के साथ स्वतंत्र मार्गदर्शन को उदार बनाते हैं।”

ताइवान ने इस कदम का स्वागत किया है। वॉशिंगटन में उसके प्रतिनिधि कार्यालय ने कहा कि यह विकास क्षेत्रीय सुरक्षा, अर्थशास्त्र और वैश्विक स्वास्थ्य जैसे क्षेत्रों में दोनों देशों के बीच विकासशील सहयोग से मिलता जुलता है।

वहीं दूसरी ओर चीन ने हाल ही में ताइवान के जल मार्ग पर अपनी सैन्य गतिविधियों को बढ़ाया है। उसका मानना है कि अमेरिका उन शक्तियों का समर्थन कर रहा है, जो चाहते हैं कि द्वीप औपचारिक स्वतंत्रता की घोषणा करे। अमेरीका ने ताइवान की सीमा में चीन की हालिया कार्रवाई को संभावित रूप से अस्थिर करने वाला कहा है।