समाचार
पैंगोंग से चीन पीछे नहीं हटा तो चुशुल को भारत नहीं करेगा खाली, 7 स्थानों पर सेना तैनात

भारत ने सीमा पर चीन को कड़े शब्दों में कह दिया कि वह पैंगोंग से पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) को हटा ले। यहाँ चीनी सैनिक उन क्षेत्रों को पार करके अंदर आ गए हैं, जिसे देश नियंत्रण रेखा (एलएसी) मानता है।

जनसत्ता की रिपोर्ट के अनुसार, चीन को उसी के अंदाज में जवाब देने के लिए भारतीय सेना ने सात अहम जगहों पर अपनी स्थिति जमा ली है। दरअसल, सीमा पर तनाव के बीच चीन लगातार दबाव बना रहा है कि भारतीय सेना चुशूल खाली करे। अब भारत ने सख्ती से उन्हें पैंगोंग से हटने को कह दिया है।

द इंडियन एक्सप्रेस की खबर के मुताबिक, सूत्रों ने कहा कि सेना सात स्थानों पर आगे बढ़ गई है। ऐसा नहीं है कि चीन अब भी सिर्फ बातचीत ही कर रहा है। भारत ने जब से सात अहम जगहों पर अपनी स्थिति बनाई है, तब से चीन वहाँ से हटने को कह रहा है। पैंगोंग त्सो के पास भारत ने जो स्थिति बनाई है, उससे वह न सिर्फ स्पैंगुर गैप में मजबूत है बल्कि चीनी सेना के गढ़ मोल्डो में भी सुदृढ़ है।

हाल ही में हुई वार्ता के दौरान चीन ने कहा कि वह चाहता है कि भारतीय सेना ने दक्षिण में जो स्थिति बनाई है, उसे छोड़कर पीछे हट जाए। भारत का कहना है कि दोनों ही सेनाओं को एकसाथ पीछे हटना चाहिए। मई से लेकर अब तक सात बार कमांडर स्तर की बातचीत हुई है। भारत चाहता है कि चीन अपने सैनिकों को पैंगोंग से पीछे हटाए क्योंकि उसने एलएसी को पार किया है।

भारत और चीन के रक्षा और विदेश मंत्रालय के बीच जो बातचीत हुई है, उसमें दोनों देश बॉर्डर पर शांति बनाए रखने पर सहमत हुए हैं पर चीन ने यह नहीं बताया कि वह किसलिए बॉर्डर पर सैनिकों की संख्या बढ़ा रहा है।