समाचार
आईसीएमआर ने कोविड-19 के उपचार के लिए जानवरों के रक्त सीरम से बनाई दवा

कोविड-19 के संक्रमण के उपचार का एक नया नुस्खा भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) ने हैदराबाद की एक फार्मास्यूटिकल कंपनी के साथ मिलकर खोज निकाला है।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, आईसीएमआर का दावा है कि कोरोनावायरस के उपचार के लिए जानवरों के रक्त सीरम का इस्तेमाल करते हुए अत्यधिक शुद्ध एंटीसेरा विकसित की गई है। यह कोविड-19 के खतरे को कम करने में बहुत कारगर है। आईसीएमआर का कहना है कि इस तरह के उपायों का उपयोग पहले भी कई वायरल बैक्टीरियल संक्रमणों को नियंत्रित करने में किया जा चुका है।

एंटीसेरा जानवरों से प्राप्त रक्त सीरम है, जिसमें खास एंटीजन के खिलाफ एंटीबॉडीज़ होते हैं। खास बीमारियों के उपचार में इनका इस्तेमाल किया जाता है। दावा किया जा रहा है कि यह न सिर्फ मरीजों में बीमारी को खतरनाक स्तर पर ले जाने से बचाने में कारगर है बल्कि यह संक्रमण का उपचार करने में भी सक्षम है।

बता दें कि भारत में अब तक करीब एक लाख लोग कोविड-19 के संक्रमण की वजह से अपनी जान गंवा चुके हैं। इनमें 30 प्रतिशत मौतें सिर्फ सितंबर में हुईं। तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश के वैज्ञानिकों के एक सर्वेक्षण में पता चला कि बच्चों में सबसे ज्यादा संक्रमण फैल रहा है।

पहले जहाँ रोज 95,000 मामले दर्ज किए जाते थे, वे अब घटकर 85,000 से नीचे आ गए हैं। आज भी 86,821 नए मामले सामने आए व 1181 लोगों की मौत हो गई। अब तक 63.12 लाख लोग संक्रमण के दायरे में आ चुके हैं। अच्छी बात यह है कि 52.73 लाख लोग वायरस को मात दे चुके हैं। देश में ठीक होने की दर 83.53 प्रतिशत है, जबकि मृत्यु दर 1.56 प्रतिशत है।