समाचार
भारत में विश्व कप आयोजन पर संकट- सरकार को कर देने से कतराता आईसीसी

अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने भारत को टी20 विश्व कप 2021 और वनडे विश्व कप 2023 की मेजबानी सौंपने के लिए टैक्स में छूट की शर्त रखी थी लेकिन इसके उत्तर में बीसीसीआई ने स्पष्ट कर दिया है कि वह किसी प्रकार की टैक्स छूट पर विचार नहीं करेगी, इसके बदले में भले ही टूर्नामेंट भारत से बाहर करवाए जाएँ।

दुबई में हुई तिमाही बैठक में आईसीसी ने बताया था कि 2016 के टी20 विश्व कप में इसने बहुत पैसे कमाए थे लेकिन एक बड़ी राशि कर के रूप में भारत सरकार को देनी पड़ी। “2021 का टी20 विश्व कप और 2023 के विश्व कप में इसे केवल कर स्वरूप ही 150 करोड़ रुपए तक देने पड़ेंगे।”, सोमवार को एख अधिकारी ने डीएनए  को बताया।

इसके जवाब में बीसीसीआई के अधिकारी ने कहा, “आईसीसी चाहे तो भारत से विश्व कप की मेजबानी छीन सकता है। बोर्ड का कहना है कि टैक्स माफी का मामला सरकार का है और इसके लिए उनकी मंज़ूरी की आवश्यकता होती है। इस तरह के दबाव में आकर हम आईसीसी की कोई मदद नहीं कर सकते।”

आईसीसी सीधे तौर पर भारत से मेजबानी नहीं छीन सकता क्योंकि इससे बीसीसीआई भी आईसीसी से अपना राजस्व वापस ले लेगा जिससे आईसीसी को काफी नुकसान होगा। इसके अलावा बीसीसीआई ने यह भी बताया कि आईसीसी सदस्य देशों से अलग व्यवहार करता है।