समाचार
सीमा पार भारतीय वायु सेना का त्रय हमला: जैश-ए-मोहम्मद का आतंक शिविर नष्ट

भारतीय वायु सेना के 12 मिराज 2000 विमानों ने मंगलवार (26 फरवरी) रात 3.30 बजे बालाकोट में नियंत्रण रेखा को पार कर जैशमोहम्मद के आतंकी शिविरों को हवाई हमलों के माध्यम से निशाना बनाया।

खैबरपख्तूनख्वा प्रांत में आने वाले क्षेत्र पर प्रहार करने का मतलब है कि जेट विमानों ने हवाई हमलों के लिए दुश्मन नियंत्रण वाले इलाके में गहराई से प्रवेश किया। कहा जा रहा है कि कुल 1000 किलो के बम गिराए गए जिससे जैश-ए-मोहम्मद का आतंकी उपकरण पूर्ण रूप से विध्वंस हो गया।

अनाम सरकारी सूत्रों के अनुसार जैश के शिविरों को लक्षित करने का प्रयास किया गया था लेकिन अभी तक कोई आधिकारिक क्षति का आकलन नहीं किया गया है। लेकिन रिपोर्ट का दावा है कि त्रय आयामी हमले ने बालाकोट, चकोठी और मुज़फ्फराबाद में जैश-ए-मोहम्मद के नियंत्रण कक्ष और आतंक लॉन्च पैड को पूरी तरह नष्ट कर दिया।

रक्षा विश्लेषक नितिन गोखले ने इस बीच अनुमान लगाया है कि भारत ने दो हवाई और एक ज़मीनी हमले का सहारा लिया है। सीएनएन न्यूज़ 18 ने किपोर्ट किया है कि उच्च सरकारी सूत्रों के अनुसार 200-300 लोग मारे गए हैं। वर्तमान में वायुसेना हाई अलर्ट पर है।

संयोग से पाकिस्तानी प्रतिष्ठान ने हवाई हमलों की अटकलों को नकारा नहीं है। पाकिस्तानी सशस्त्र बल के प्रवक्ता आसिफ गफूर ने दावा किया कि भारतीय जेट ने मुजफ्फराबाद सेक्टर में प्रवेश किया, जहां वे स्पष्ट रूप से पाकिस्तानी जेट द्वारा बाधित थे।