समाचार
एयर चीफ मार्शल भदौरिया फ्रांस की आधिकारिक यात्रा पर “नई संभावनाएँ” तलाशेंगे

भारतीय वायुसेना (आईएएफ) प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया सोमवार (19 अप्रैल) को फ्रांस की अपनी आधिकारिक यात्रा पर गए। 19 से 23 अप्रैल तक की इस यात्रा का उद्देश्य दोनों वायु सेनाओं के बीच बातचीत के स्तर को बढ़ाना है। गत वर्ष फ्रांस के वायु एवं अंतरिक्ष बल के चीफ ऑफ स्टाफ (एफएएसएफ) जनरल फिलिप लैविग्ने ने भारत का दौरा किया था।

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, आरकेएस भदौरिया फ्रांस के वरिष्ठ सैन्य नेतृत्व के साथ बैठकें और विचार-विमर्श करेंगे। साथ ही परिचालन सुविधाओं और एयरबेसों का दौरा भी करेंगे।

आईएएफ ने ट्वीट किया, “एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया एफएएसएफ जनरल फिलिप लैविग्ने के निमंत्रण पर आज फ्रांस की आधिकारिक यात्रा पर गए हैं। यह यात्रा दोनों वायु सेनाओं के बीच संपर्क के स्तर को मजबूत करने के लिए नई संभावनाएँ तलाशेगी।”

दोनों वायु सेनाओं में हाल ही के दिनों में महत्वपूर्ण परिचालन सहभागिता देखी गई है। आईएएफ और एफएएसएफ ने द्विपक्षीय वायु अभ्यास शृंखला गरुड़, हॉप अभ्यास, 21 जनवरी 2021 को जोधपुर के वायुसेना स्टेशन में हुए डेजर्ट नाइट अभ्यास में शिरकत की थी। उन्होंने मार्च 2021 में संयुक्त अरब अमीरात वायुसेना द्वारा आयोजित अभ्यास डेजर्ट फ्लैग में भी अन्य मित्र देशों के साथ हिस्सा लिया था।

माना जाता है कि आरकेएस भदौरिया 21 अप्रैल को फ्रांस में मेरिग्नैक-बोर्दो एयरबेस से 6 राफेल लड़ाकू विमानों को भी हरी झंडी दिखाएँगे। इन नए विमानों के भारत पहुँचने से भारतीय वायुसेना द्वारा राफेल जेट का दूसरा स्क्वाड्रन खड़ा करने का रास्ता साफ हो जाएगा।

नया स्क्वाड्रन पश्चिम बंगाल में हासिमारा हवाई अड्डे पर तैनात होगा। इन छह के आगमन से भारत के पास 36 में से कुल 20 राफेल हो जाएँगे। इस तरह आईएएफ के पास समग्र भूमिका वाले विमानों की संख्या भी बढ़ जाएगी।