समाचार
आरबीआई- आय के अनुपात में आवास मूल्य बढ़ा, मुंबई में घर खरीदना सबसे कठिन

भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) के जारी आँकड़ों के अनुसार पिछले चार वर्षों के दौरान लोगों के लिए घर खरीदना काफी मुश्किल हो गया है। मुंबई में घर खरीदारों की पहुँच से सबसे अधिक दूर हुए हैं।

लाइव मिंट  की रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय रिज़र्व बैंक की तिमाही आवासीय परिसंपत्ति मूल्य निगरानी सर्वेक्षण में बताया गया है कि पिछले चार वर्ष में आवास मूल्स से आय अनुपात मार्च 2015 के 56.1 से बढ़कर मार्च 2019 में 61.5 हो गया है। विभिन्न शहरों की बात की जाए तो मुंबई में घर खरीदना सबसे मुश्किल और भुवनेश्वर में सबसे आसान है।

अनारकली प्रॉपर्टी कंसल्टेंट्स के अध्यक्ष अनुज पुरी ने कहा, “अहम बात यह है कि देश में घर की कीमतों और वास्तविक आय में व्यापक अंतर है। यह स्थिति केवल पिछले चार वर्षों में बिगड़ी है।” पिछले चार वर्षों में आवासीय माँग में धीमी वृद्धि के कारण मुंबई और दिल्ली-एनसीआर जैसे प्रमुख शहरों में घर की कीमतें गिर गई हैं या फिर स्थिर बनी हुई हैं।

नाइट फ्रैंक की एक रिपोर्ट के अनुसार, मुंबई, पुणे, चेन्नई और कोलकाता में घर की कीमतों में एक साल पहले की अवधि से क्रमशः 3 प्रतिशत, 4 प्रतिशत, 3 प्रतिशत और 2 प्रतिशत की गिरावट आई है। हालाँकि, 2019 की पहली छमाही में बिक्री की मात्रा 4% पर स्थिर रही।

रिपोर्ट में यह भी कहा गया कि शीर्ष आठ शहरों में पिछले चार वर्षों में आवासीय कीमतों में वृद्धि खुदरा मुद्रास्फीति से नीचे रही है और अंतर के बाद से 2016 की पहली छमाही में वृद्धि हुई है। रिपोर्ट के अनुसार, बिक्री मुख्य रूप से सस्ती और मध्यम आय वाले आवास खंड के रूप में की गई है।