समाचार
जीडीपी निराशा के बाद विनिर्माण क्रय सूचकांक पाँच महीनों की गिरावट के बाद चढ़ा

इस वर्ष मार्च से शुरू होने वाले पाँच महीनों के लिए सीधे गिरावट के बाद अगस्त के विनिर्माण क्रय प्रबंधक सूचकांक (पीएमआई) की व्याख्या ने विस्तार दिखाया है।

जुलाई में 46 की तुलना में अगस्त में सूचकांक 52 तक पहुँच गया है। विनिर्माण पीएमआई पहले से ही अक्टूबर 2019 में 50.6 पर 2 दो वर्ष के निचले स्तर पर पहुँच गया था।

पीएमआई एक सर्वेक्षण-आधारित उपाय है, जो उत्तरदाताओं से पिछले महीने की तुलना में प्रमुख व्यावसायिक परिवर्तित कारकों के बारे में उनकी धारणा में बदलाव के बारे में पूछता है।

लाइवमिंट ने आईएचएस मार्किट की सर्वे रिपोर्ट के हवाले से बताया कि 50 से ऊपर एक व्याख्या विस्तार है और इस अंक के नीचे एक संख्या संकुचन को इंगित करता है। यह नए घरेलू आदेशों के तहत था क्योंकि लॉकडाउन प्रतिबंधों में ढील के बाद कारोबार फिर से खुल गया।

वहीं, अगस्त के लिए जीएसटी संग्रह जुलाई की तुलना में करीब एक प्रतिशत कम 86,449 करोड़ रुपये रहा। पिछले वर्ष के इसी महीने की तुलना में कलेक्शन में 12 प्रतिशत की गिरावट आई है। बता दें कि कोविड-19 की वजह से अप्रैल से जून के वित्त वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में 23.9 प्रतिशत की बड़ी गिरावट आई है।