समाचार
गृह मंत्रालय ने 314 विदेशी सिख नागरिकों के नाम काली सूची से हटाए, अब शेष बचे दो

गृह मंत्रालय ने सिख समुदाय से जुड़े 314 विदेशी नागरिक, जो भारत विरोधी गतिविधियों में शामिल थे, उनके नाम समीक्षा के बाद शुक्रवार को काली सूची से हटा दिए हैं। अब सूची में सिर्फ दो ही नाम शेष रह गए हैं।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, सरकार के इस फैसले के बाद अब वे भारत में अपने परिवारों से मिलने आ सकते हैं और अपने देश से दोबारा जुड़ सकते हैं। सरकार ने सभी भारतीय मिशनों को सलाह दी है, “अब ऐसे शरणार्थी और उनके परिवार के सदस्य मुख्य प्रतिकूल सूची में नहीं हैं। उन्हें विदेशियों की तरह वीजा और वाणिज्यिक सेवाएँ दी जाएँगी।”

अधिकारी ने बताया, “सरकार ने काली सूची में सिख समुदाय के 314 विदेशी नागरिकों के नामों की समीक्षा की। अब इस सूची में सिर्फ दो नाम हैं। सूची से हटने वाले अगर कम से कम दो साल तक सामान्य भारतीय वीजा रखते हैं तो भारतीय विदेशी नागरिकता (ओसीआई) कार्ड भी प्राप्त कर सकते हैं।”

1980 के दौरान कई सिख भारतीय नागरिक और सिख समुदाय से संबंधित विदेशी नागरिकों ने भारत विरोधी प्रचार के लिए विदेशों में शरण ली थी। इस पर भारतीय मूल के शरणार्थियों को भारतीय मिशनों ने वीजा देने से मना कर दिया था। तब से उन्होंने भारत में कथित उत्पीड़न की बात कहकर विदेश में शरण ली थी। उन्हीं को 2016 तक प्रतिकूल सूची में रखा गया था।