समाचार
“तबलीगी जमात ने तेज़ी से फैलाया संक्रमण, मोहम्मद साद पर चल रही जाँच”- गृह मंत्रालय

गृह मंत्रालय ने सोमवार (21 सितंबर) को राज्यसभा में बहस के दौरान कहा कि मार्च में दिल्ली के निज़ामुद्दीन क्षेत्र में तबलीगी जमात के आयोजन से देश में तेज़ी से कोरोनावायरस का प्रसार हुआ है।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्डी ने राज्यसभा में एक लिखित उत्तर में कहा, “दिल्ली पुलिस ने 233 तबलीगी जमात के सदस्यों को गिरफ्तार किया है। 29 मार्च से संगठन के मुख्यालय से 2,361 लोगों को निकाला गया। अभी तबलीगी जमात प्रमुख मौलाना मोहम्मद साद के खिलाफ जाँच चल रही है।”

उन्होंने कहा, “दिल्ली पुलिस की रिपोर्ट में कहा गया कि कोविड-19 को लेकर जारी किए गए दिशा-निर्देशों के बावजूद लंबे समय तक मास्क और सामाजिक दूरी के प्रावधान के बिना एक बंद परिसर में बड़ी सभा की गई। इसने कई व्यक्तियों के बीच कोरोनावायरस के संक्रमण का प्रसार किया।”

बता दें कि संक्रमण की रोकथाम को लागू देशव्यापी लॉकडाउन का उल्लंघन करने की साजिश के लिए मौलाना साद पर बड़ी राशि के हेर-फेर का मामला दर्ज है। इस मामले में मौलाना और उसके साथियों पर जानबूझकर साजिश के तहत महामारी फैलाने और संभावित सामूहिक हत्या के प्रयासों के धाराओं में मामले दर्ज हैं।

करीब 9000 तबलीगी जमात के देश-विदेश से आए सदस्यों ने लॉकडाउन के दौरान दिल्ली में गुपचुप तरीके से बड़ा जलसा किया था। इन लोगों के माध्यम से ही दिल्ली और आसपास के राज्यों में कोरोना तेज़ी से फैला था।