समाचार
भाजपा के हिंदुत्व पर राहुल का दाँव? अमेठी के पुराने मंदिरों का जीर्णोद्धार

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी ने अपने संसदीय क्षेत्र अमेठी के पुराने मंदिरों का जीर्णोद्धार कराने का निर्णय लिया है। माना जा रहा है कि उनकी पार्टी को मिल रहे लाभ से प्रोत्साहित होकर उन्होंने यह निर्णय लिया।

मंदिरों के जीर्णोद्धार की राशि सांसद क्षेत्रीय विकास योजना के अंतर्गत प्रदान की जाएगी। डेक्केन हेराल्ड के अनुसार अमेठी शहर कांग्रेस अध्यक्ष योगेन्द्र मिश्रा ने कहा, “धनराशि का उपयोग मंदिरों में हाइ-मास्ट (उच्च-कूपदंड) लाइट लगाने के लिए किया जाएगा।”

जिन मंदिरों का जीर्णोद्धार किया जाना है उनमें हिंगलाज भवानी धाम (मुसाफिरखाना), देवी पाटन मंदिर (अमेठी) तथा कालिकन शक्तिपीठ (संग्रामपुर) शामिल हैं। कुछ महीने पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर भी गए थे और तभी से उन्हें शिव भक्त कहा जा रहा है।

हाल ही में मध्य प्रदेश, राजस्थान तथा छत्तीसगढ़ में संपन्न हुए विधानसभा चुनावों के दौरान वे कई मंदिरों में गए थे। इससे भाजपा की हिंदुओं की पार्टी वाली छवि को अप्रत्यक्ष रूप से चुनौती दी गई थी।

वर्ष 2014 के चुनावों में पराजय के बाद से ही स्मृति ईरानी अमेठी में सक्रिय हैं, राहुल गाँधी को इस बात का भी भय है। वहाँ महिलाओं को साड़ियाँ वितरित करते हुए ईरानी को देखा गया है। इसके अलावा कई भाजपा नेता भी अमेठी संसदीय क्षेत्र में सक्रियता दिखा रहे हैं।