समाचार
चीन की तीन बार की घुसपैठ को भारत ने किया नाकाम, गृह मंत्रालय ने जारी की चेतावनी

चीनी पीपल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) ने पिछले कुछ दिनों में करीब तीन बार सीमा पार करके घुसपैठ की कोशिश की, जिसे भारतीय सेना ने अपनी सतर्कता से नाकाम कर दिया। तनाव के बीच केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बुधवार को चेतावनी जारी कर भारत-नेपाल सीमा, उत्तराखंड और सिक्किम में तिराहे क्षेत्रों पर अधिक सतर्कता बरतने का आदेश दिया।

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार, चीन की सैन्य घुसपैठ 29 अगस्त की रात से शुरू हुई, जब 500 से अधिक सैनिक पैंगोंग त्सो के पास भारतीय सेना के करीब पहुँचने लगे। घटनास्थल पर तैनात भारतीय सेना के जवानों ने उन्हें चुनौती दी। इसके परिणामस्वरूप दोनों पक्षों की ओर से कुछ समय के लिए हाथापाई भी हुई। भारत ने चीन को पीछे धकेल दिया और क्षेत्र में ऊँचाई पर कब्ज़ा कर लिया। स्थिति को बिगड़ने से बचाने के लिए दोनों पक्षों के बीच वार्ता शुरू हुई।

सोमवार (31 अगस्त) को चीन ने दूसरी बार काला टॉप और हेलियो टॉप पर उकसावे वाली कार्रवाई की कोशिश की। ऊँचाई पर पहुँचे भारतीय सैनिकों ने उन्हें देखा और वहाँ से खदेड़ दिया। 1 सितंबर को फिर चीन ने चुमार क्षेत्र में आने की कोशिश की। सात से आठ भारी वाहनों में बैठे चीनी सैनिक एलएसी के भारतीय हिस्से की ओर बढ़े लेकिन भारत ने पहले ही अपने सैनिकों को जुटा लिया था। उन्हें देखकर वे पीछे हट गए।

गृह मंत्रालय के सूत्रों की मानें तो इंडो तिब्बत बॉर्डर पुलिस (आईटीबीपी) और सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी) को अलर्ट किया गया। उत्तराखंड, अरुणाचल प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, लद्दाख और सिक्किम बॉर्डर पर आईटीबीपी को सतर्क रहने को कहा गया है।