समाचार
“भारत माँ की सेवा में शहीद एक बेटा, दूसरा भी जाएगा लड़ने”- बोले जवान के पिता

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवान रतन ठाकुर जो कल (14 फरवरी) को पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए थे के पिता ने कहा है कि वह भारत के लिए लड़ने के लिए अपने दूसरे बेटे को भेजने में संकोच नहीं करेंगे।

बिहार के भागलपुर के रहने वाले ठाकुर के पिता ने कहा कि वह अपने दूसरे बेटे को भी भारत माता की सेवा के लिए तैयार करने के लिए तैयार हैं लेकिन मांग की कि पाकिस्तान को आतंकी हमले के लिए करारा जवाब मिलना चाहिए।

कल (14 फरवरी) जम्मूकश्मीर के पुलवामा जिले के अवंतीपोरा में एक आईईडी हमले में सीआरपीएफ के कम से कम 44 जवान शहीद हो गए थे। कथित रूप से कश्मीरी मूल के एक आत्मघाती हमलावर द्वारा संचालित विस्फोटक से भरी एसयूवी राज्य के लगभग 70 वाहनों के सीआरपीएफ के काफिले में शामिल हो गई।

अमेरिका ने गुरुवार शाम (14 फरवरी) को एक बयान में हमले के खिलाफ गंभीर चिंता व्यक्त की।

व्हाइट हाउस के एक बयान में कहा गया, “संयुक्त राज्य अमेरिका ने पाकिस्तान स्थित आतंकवादी समूह द्वारा किए गए जघन्य आतंकवादी हमले की कड़े शब्दों में निंदा की जिसमें 40 से अधिक भारतीय अर्धसैनिक बल मारे गए और कम से कम 44 अन्य घायल हो गए। हम इस क्रूर हमले में पीड़ितों के परिवारों, भारत सरकार और भारतीय लोगों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त करते हैं।