समाचार
जीएसटी संग्रह अक्टूबर में 8 माह में पहली बार ₹1 लाख करोड़ से अधिक हो सकता है

कोविड-19 के संक्रमण को कम करने के लिए इस वर्ष के शुरू में लगाए गए कड़े लॉकडाउन के कारण भारतीय अर्थव्यवस्था में भारी गिरावट आई थी। इसके बावजूद, एक सकारात्मक विकास में आठ महीने में पहली बार माल और सेवा कर (जीएसटी) संग्रह 1 लाख करोड़ रुपये से अधिक होने की संभावना है।

हिन्दुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, वर्तमान में चल रहे माह में जीएसटी राजस्व में काफी वृद्धि हुई है। इसमें 20 अक्टूबर तक पूरे देश में व्यापारियों द्वारा 11 लाख से अधिक जीएसटीआर-3 बी रिटर्न दाखिल किए गए हैं। इससे पिछले वर्ष अक्टूबर के पहले 20 दिनों की तुलना में एक बड़ा उछाल आया है, जब इसी माह में दायर जीएसटीआर-3 बी रिटर्न की संख्या 4,85,000 थी।

यह भी ध्यान दिया जाना चाहिए कि सितंबर में जीएसटी संग्रह ने साल-दर-साल चार प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की। मार्च के बाद यह पहली बार है, जब जीएसटी संग्रह बढ़ा है।

ई-चालान के उपयोग जैसी बेहतर प्रवर्तन प्रणालियों की वजह से चालू माह में राजस्व संग्रह में वृद्धि होने की संभावना है। ई-चालान व्यवस्था को सालाना कारोबार के लिए प्रभावी बनाया गया, जिसमें सालाना 500 करोड़ रुपये से अधिक का कारोबार होता है। इसके अलावा, 1 जनवरी 2021 से सीमा को 100 करोड़ रुपये तक लाया जाएगा।