समाचार
सरकार गाँवों में टाटा पावर संग 10,000 से अधिक सौर ऊर्जा के छोटे ग्रिड स्थापित करेगी

भारत में सौर ऊर्जा के प्रसार को लेकर केंद्र सरकार की ई-संचालन सेवा इकाई, सामान्य सेवा केंद्र (सीएससी) टाटा पावर के साथ देश भर के ग्रामीण क्षेत्रों में 10,000 से अधिक सौर ऊर्जा के छोटे आकार के ग्रिड और पानी के पंप स्थापित करने के लिए जुड़ गई है।

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, इस सहयोग के तहत 3.75 लाख से अधिक सीएससी किसानों को सौर जल पंपों की आपूर्ति में शामिल करेंगे। ये सीएससी ग्रामीण क्षेत्रों में आवासीय और वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों में छोटे आकार के ग्रिड स्थापित करने में भी मदद करेंगे।

इसके अतिरिक्त, इस साझेदारी से प्रत्येक पंचायत में कम से कम दो लोगों के लिए रोजगार के अवसर पैदा होने की उम्मीद है, जहाँ छोटे आकार के ग्रिड की स्थापना प्रस्तावित की गई है। इससे 20,000 ग्रामीण युवाओं के लिए समग्र रोजगार के साधन उत्पन्न हो सकते हैं।

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी के पाँच गाँवों में इसी के बारे में एक प्राथमिक परियोजना चलाई जा रही है। यह साझेदारी सीएससी की ऊर्जा आवश्यकताओं को पूरा करने में मदद करेगी। साथ ही गाँवों में केंद्र सरकार के भारतनेट को 24 घंटे बिजली की आपूर्ति की आवश्यकता को भी पूरा करेगी।

इस बीच, सीएससी ने सौर ऊर्जा पंपों के किराए के मॉडल के लिए टाटा पावर से भी समर्थन मांगा है, जिसे 6,000 किसान उत्पादक संगठनों (एफपीओ) को प्रदान किया जा सकता है।