समाचार
लद्दाख और जम्मू-कश्मीर सहित भारत के सुदूर गाँवों में संचार व्यवस्था देने की तैयारी

बड़े सकारात्मक कदम के रूप में केंद्र सरकार भारत के विभिन्न सुदूर गाँवों के साथ लद्दाख और जम्मू-कश्मीर के सुदूर गाँवों में दूरसंचार कनेक्टिविटी देने के लिए तैयार है।

फाइनेंशियल एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, संचार व्यवस्था के तहत लद्दाख और जम्मू-कश्मीर के क्रमशः 57 और 87 गाँवों में सबसे अधिक विकास होगा। सरकार के इस निर्णय से भारत के कुल 354 सुदूर गाँवों को लाभ मिलेगा।

एक बार परियोजना पूरी हो जाने के बाद भारत इन केंद्र शासित प्रदेशों के सभी हिस्सों में शत-प्रतिशत दूरसंचार कनेक्टिविटी हासिल कर लेगा। यह परियोजना राज्य के स्वामित्व वाली भारत संचार निगम लिमिटेड (बीएसएनएल) द्वारा यूनिवर्सल सर्विस ऑब्लिगेशन फंड (यूएसओएफ) का उपयोग करके पूरी की जाएगी।

इस बीच, लद्दाख में रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण गलवान घाटी, हॉट स्प्रिंग्स, दौलत बेग ओल्डी (डीबीओ), डी सिंह पोस्ट, लुकुमग, थाकुंग और चुसुल के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) में तत्काल आधार पर संचार सुविधाएँ स्थापित करने के लिए सरकार ने 134 सैटेलाइट फोन टर्मिनल तैनात किए हैं।

यह भी गौर किया जाना चाहिए कि न केवल लद्दाख बल्कि देश में ऐसे विभिन्न कठिन क्षेत्रों में सरकार द्वारा कुल 812 उपग्रह फोन टर्मिनल स्थापित किए गए हैं।