समाचार
नीरव मोदी जाँच से जुड़े अधिकारी का तबादला करने पर सरकार ने हटाया अग्रवाल को

केंद्र सरकार ने मुंबई में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के विशेष निदेशक विनीत अग्रवाल को हटा दिया है। उनपर भगौड़े नीरव मोदी और विजय माल्या की जांच कर रहे अफसर का तबादला करने के मामले में कार्रवाई की गई है।

हिंदुस्तान  की रिपोर्ट के अनुसार, ईडी के संयुक्त निदेशक सत्यब्रत कुमार 29 मार्च को लंदन में नीरव मोदी मामले की सुनवाई के लिए मौजूद थे। तभी विनीत अग्रवाल ने विवादास्पद तरीके से उनके तबादले के आदेश जारी कर दिए थे। इसके बाद ईडी के निदेशक संजय मिश्रा ने कुछ ही घंटों में सत्यब्रत के तबादले को रद कर दिया था।

उन्होंने कहा, “एक विशेष निदेशक को केवल एक सहायक निदेशक के स्तर तक के अधिकारी के प्रभार को स्थानांतरित करने या बदलने के लिए अधिकार दिया जाता है। संयुक्त निदेशक पद, सहायक निदेशक से ऊपर है और केवल ईडी निदेशक को ऐसे अधिकारी को स्थानांतरित करने का अधिकार है।”

जांच एजेंसी के अधिकारियों का कहना, “29 मार्च की घटना को नीरव मोदी को प्रत्यर्पित करने के भारतीय जांच एजेंसियों के प्रयासों को कमजोर करने के प्रयास के रूप में देखा गया।” महाराष्ट्र कैडर के 1994 बैच के आईपीएस अधिकारी अग्रवाल को पांच साल के लिए प्रवर्तन निदेशालय में जनवरी 2017 में प्रतिनियुक्ति पर भेजा गया था।

केंद्रीय वित्त मंत्रालय ने मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति से स्वीकृति मिलने के बाद उनका कार्यकाल तीन साल कम किया है और अधिकारी को तत्काल प्रभाव से गृह राज्य भेज दिया है।