समाचार
टीकाकरण में निजी क्षेत्रों की भागीदारी बढ़ाकर सरकार का प्रतिदिन 50,000 सत्रों का लक्ष्य

केंद्र सरकार कोविड-19 के खिलाफ देशव्यापी टीकाकरण अभियान में निजी क्षेत्र को बड़े पैमाने पर भागीदारी के लिए शामिल करने की तैयार कर रहा है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, नीती आयोग के सदस्य डॉक्टर वीके पॉल के अनुसार, वर्तमान में कोविड-19 टीकाकरण के अगले चरण का विवरण बन रहा है। इसमें निजी क्षेत्र की भागीदारी बड़े पैमाने पर होगी। उन्होंने जोर दिया कि अब भी निजी क्षेत्र प्रत्येक दिन 10,000 टीकाकरण सत्रों में से लगभग 2,000 का संचालन करता है।

डॉक्टर पॉल ने कहा, “जैसे-जैसे राष्ट्र बहुत तेजी से टीकाकरण कार्यक्रम की ओर बढ़ेगा, निजी क्षेत्र का जुड़ाव गहरा और व्यापक होता जाएगा। सरकार ने कहा कि प्रत्येक दिन के लिए 50,000 सत्रों का लक्ष्य है।”

इस बीच, सरकार ने राज्य सरकारों से वैक्सीनेशन के सत्र स्थलों को बढ़ाने को भी कहा है। वैक्सीन की पहली खुराक के साथ सरकार ने पहले ही पंजीकृत स्वास्थ्यकर्मी और अग्रिम पंक्ति के कर्मचारियों का 67 प्रतिशत और 40 प्रतिशत टीकाकरण कर दिया है। लगभग 11.15 लाख स्वास्थ्य कर्मियों को अपनी दूसरी खुराक भी मिली है।

सोमवार (22 फरवरी) को केंद्रीय गृह मामलों के मंत्री अमित शाह ने देश में कोविड-19 की स्थिति का भी जायज़ा लिया। विशेष रूप से उन राज्यों का, जहाँ हाल ही के दिनों में नए मामले तेज़ी से बढ़े हैं।