समाचार
मध्य प्रदेश में लव जिहाद के विरुद्ध बने कानून को राज्यपाल आनंदी बेन ने दी स्वीकृति

मध्य प्रदेश में लव जिहाद के विरुद्ध लाए गए अंतर धार्मिक विवाह नियंत्रण अध्यादेश को राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने गुरुवार (7 जनवरी) को स्वीकृति दे दी।

अमर उजाला की रिपोर्ट के अनुसार, राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने उन सभी 12 अध्यादेशों पर हस्ताक्षर किए हैं, जिन्हें हाल ही में मध्य प्रदेश मंत्रिमंडल ने पारित करके उनके पास भेजे थे।

इस विधेयक को राज्य विधानसभा के शीत सत्र में प्रस्तुत किया जाना था लेकिन कोविड-19 के संक्रमण की वजह से सत्र को स्थगित कर दिया गया। इन 12 अध्यादेशों में एक मिलावट विरोधी कानून भी है। इसके तहत मिलावट के दोषी पाए जाने वाले को आजीवन कारावास की सजा का प्रावधान है।

इससे पूर्व, बुधवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इंदौर में लव जिहाद कानून को लेकर कहा था, “महिलाओं की ज़िंदगी से खिलवाड़ करने वालों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाएगी। हम किसी भी कीमत पर धर्म परिवर्तन का खेल नहीं चलने देंगे।”

बता दें कि इस अध्यादेश में स्पष्ट किया गया है कि अगर कोई अपने मूल धर्म को वापस अपनाता है तो वह अपराधी नहीं माना जाएगा। इसके अतिरिक्त, महिलाओं, नाबालिगों व अन्य का बल पूर्वक या लालच के जरिए धर्म परिवर्तन कराने पर दो से 10 साल तक की सज़ा और 50 हजार रुपये तक के जुर्माने का प्रावधान है।