समाचार
केंद्र सरकार ने बदले परीक्षण मानदंड, अब निमोनिया के मामले भी किए शामिल

कोरोनावायरस की महामारी को रोकने के लिए देश में चल रहे युद्ध स्तर के प्रयास को बढ़ाते हुए केंद्र सरकार ने परीक्षण मानदंडों को बदल दिया है। अब कोविड-19 मामलों के परीक्षण में यात्रा व संपर्क इतिहास के अलावा निमोनिया के सभी मामले भी शामिल कर लिए गए हैं।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, नवीनतम एडवाइजरी शुक्रवार (20 मार्च) को पूरे भारत के अस्पतालों को जारी की गई थी। इसमें उन्हें निमोनिया के सभी मामलों को नेशनल सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल (एनसीडीसी) या इंटीग्रेटेड डिसीज सर्विलांस प्रोग्राम (आईडीएसपी) को सूचित करने के लिए कहा गया था, ताकि कोविड​​-19 का परीक्षण किया जा सके।

परीक्षण मानदंडों में परिवर्तन से यह भी स्पष्ट मालूम चलने की उम्मीद है कि वायरस अब क्या तीसरे चरण में पहुँचकर समाज के एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में जाना शुरू हुआ है या नहीं।

कोरोनावायरस के मामलों में बीते कुछ घंटों में देश में सबसे ज्यादा बढ़ोतरी देखी गई है। इस तरह अब तक 258 मामले हो चुके हैं। यह भी ध्यान दिया जाना चाहिए कि बढ़ते मामलों को देखने के बाद परीक्षण के मानदंडों में परिवर्तन को लेकर एक दिन में ही सूचित कर दिया गया। बता दें कि अब तक इस महामारी से भारत में चार लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 22 लोग इससे ठीक हो चुके हैं।