समाचार
चर्च के विरोध में याचिका डालने वाले के परिवार पर पादरी ने भीड़ से करवाया हमला

गोवा में पादरी की अगुआई में भीड़ ने डॉक्टर और उसके परिवार पर हमला कर दिया। आरोप है कि वहाँ पुलिस पहुँची पर उनको नहीं बचाया गया। इसका वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा है।

इंडिया एक्सपोज की रिपोर्ट के अनुसार, हमला सनाओल चर्च के खिलाफ जनहित याचिका दायर करने के बाद हुआ। वीडियो में दिखाया है कि इलाके के पादरी फ्र लुईस अल्वारेस की अगुवाई में 80 लोगों की भीड़ डॉ. कैदास वैगनकर और उनके परिवार पर हमला कर रही है।

वैगनकर और उनके निज गोयनकर पार्टी के सहयोगी चंद्रशेखर वास्ता ने पुलिस से मामले की शिकायत की है। उन्होंने बताया, “चर्च के पादरी ने हमला करने के लिए गाँववालों की भीड़ का नेतृत्व किया। यह हमला पादरी द्वारा सैंकोले पर्व पर होने वाले समारोह के दिन के लिए पहले से सुनियोजित था। उनका आरोप था कि उनकी जनहित याचिका से गाँववालों को असुविधा हुई। इसी का फायदा उठाकर पादरी ने उनको उकसाया और हमला करवाया। जनहित याचिका में समारोह को एक अलग स्थान पर स्थानांतरित करने की माँग की गई थी।

चंद्रशेखर वास्ता का आरोप है कि भले ही पुलिस को घटनास्थल पर पहुँचने के लिए फोन किया गया हो लेकिन उन्होंने डॉ. कैदास और उनके परिवार को हमले से नहीं बचाया। एक ऑटो रिक्शा चालक ने वैगनकर के खिलाफ भी मामला दर्ज करवाया है। उसका आरोप है कि वैगनकर ने उस पर पहले हमला किया था, जिसके बाद भीड़ इकट्ठा हुई थी। पुलिस अब कहानी के दोनों पक्षों की जाँच कर रही है।

इससे पूर्व वैगनकर और उनके सहयोगियों के खिलाफ चर्च के पीछे एक गौ-शाला चलाने की शिकायत की गई थी। कहा जा रहा है कि वैगनकर ने कई जमीनों पर किए गए अवैध कब्जों का मामला उठाकर चर्च के सदस्यों का विरोध भी किया था।