समाचार
तबलीगी जमात से तमिलनाडु लौटने वाला बोला, “पहले मोदी की करें कोविड-19 की जाँच”

दिल्ली में मार्च के मध्य में हुई निजामाबाद बंगलेवाली मर्कज की धार्मिक सभा को भारत में कोरोनावायरस के प्रसार का मुख्य कारण माना जा रहा है। अब वहाँ से लौटे तमिलनाडु के एक व्यक्ति ने प्रधानमंत्री की जाँच कराने को कहा।

स्वास्थ्य विभाग यह जानने के लिए उसके घर गया था कि वह सभा में शामिल हुआ था या नहीं। सोशल मीडिया पर डाले गए वीडियो में 60 वर्षीय बुजुर्ग स्वास्थ्य विभाग से तमिलनाडु मुख्यमंत्री एडप्पादी के पलानीस्वामी (ईपीएस) और उप मुख्यमंत्री ओ पनीरसेल्वम का कोरोना परीक्षण करवाने के लिए कहता है।

उक्त व्यक्ति को आधिकारिक तौर पर यह बताते हुए देखा जा सकता है, “पहले प्रधानमंत्री मोदी की जाँच करें। उन्होंने 152 देशों की यात्रा की है। आप मुझे कोरोनावायरस से संक्रमित कहकर परेशान करने की बजाए जाइए और ईपीएस व ओपीएस की जाँच करिए।” अभी तक स्पष्ट नहीं है कि क्या वह कोविड-19 के परीक्षण को करवाने के लिए तैयार हुआ है या नहीं।

उधर, तमिलनाडु सरकार को भी उनकी जाँच कराने में बाधा आ रही है, जो मोबाइल फोन को बंद करके मर्कज कार्यक्रम में शामिल हुए थे। राज्य के स्वास्थ्य सचिव बीला राजेश ने कहा, “खुफिया विभाग ने पुलिस से अब उनका पता लगाने को कहा है।”

तमिलनाडु में बुधवार दोपहर 12 बजे तक देश के कुल 1718 मामलों में से 121 मामले निकले हैं। इसमें राज्य से एक मृत्यु भी शामिल है, जिसने देश में मरने वालों की संख्या 52 कर दी है।

राज्य में कोरोना परीक्षण के सकारात्मक परिणाम आने वाले 121 में से 95 लोग हैं, जो पिछले 24 घंटे में मिले। विदेशी नागरिकों को छोड़कर दिल्ली में हुई सभा से लौटे अब तक 110 लोग संक्रमित हो चुके हैं। एक अप्रैल को पुदुचेरी ने दो कोरोनावायरस मामलों की सूचना दी थी। इनमें दोनों के ही धार्मिक सभा से लौटने की जानकारी मिली थी।