समाचार
ग़ाज़ियाबाद इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए प्रधानमंत्री मोदी का 32000 करोड़ रुपये का उपहार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भेंट स्वरूप ग़ाज़ियाबाद में 32 हज़ार करोड़ रुपये की परियोजनाओं की शुरुआत करने जा रहे हैं। 32 हज़ार करोड़ की इस बड़ी रकम में 14 परियोजनाएँ शामिल हैं जिसमें से 8 मार्च को प्रधानमंत्री मोदी 1957 करोड़ रूपये की 6 परियोजनाओं का उद्घाटन करेंगे साथ ही 30556 करोड़ रूपये की आठ परियोजनाओं का शिलान्यास करेंगे।

ग़ाज़ियाबाद के हित में इन बड़ी परियोजनाओं से पड़ोसी राज्य दिल्ली को भी फायदा मिलेगा। परियोजनाओं में मुख्य रूप से उत्तरी परिधीय सड़क, मेट्रो का दूसरा चरण, हिंडन एयरपोर्ट टर्मिनल और रैपिड रेल शामिल हैं।

ग़ाज़ियाबाद की इन परियोजाओं में ट्रैफिक मैनेजमेंट सिस्टम भी शामिल है जिसमें 60 करोड़ रूपये निवेश किए जाएँगे। इस योजना में ट्रैफिक पर नज़र रखने के लिए 110 पैन टूल कैमरे लगाए जाएँगे, साथ ही 300 व्हीकल डिटेक्शन कैमरे, 15 चौराहों पर रेड लाइट वोइलेशन और नंबर प्लेट डिटेक्शन कैमरे लगाए जाएँगे। ट्रैफिक को कम करने की इस पहल में ट्रैफिक नियमों को तोड़ने वाले लोगों के लिए भी यह अच्छा उपाय है।

ग़ाज़ियाबाद में 9.63 किलोमीटर लंबे मेट्रो रेल का निर्माण भी किया गया है जिसका उद्घाटन प्रधानमंत्री द्वारा 8 मार्च को किया जाएगा। इसमें 1781.21 करोड़ रुपये का निवेश हुआ है। दिलशाद गार्डन से शरू होकर नए बस अड्डे तक के मेट्रो रेल के इस नेटवर्क में आठ स्टेशन होंगे।

साथ ही प्रधानमंत्री 30274 करोड़ रुपये की लागत से बनी रैपिड रेल ट्रांजिट का भी शिलान्यास करेंगे। रैपिड रेल निर्माण के प्रथम चरण में दिल्ली-ग़ाज़िबाद मेरठ के 82.15 किलोमीटर लंबे नेटवर्क में कुल 24 स्टेशन होंगे। 180 किलोमीटर प्रति घंटा की तेज़ी से चलने वली यह ट्रैन उत्तर प्रदेश व उत्तराखंड जाने वाले लोगों के लिए लाभदायक साबित होगी।

उत्तरी परिधीय सड़क एलिवेटेड रोड ग़ाज़ियाबाद में से होकर जाने वाले ट्रैफिक को कम करेगी जिससे स्थानीय ट्रैफिक को कम परेशानियों का सामना करना पड़ेगा। 20 किलोमीटर लंबी यह रोड एनएच 9 से होते हुए भोपुरा तक जाएगी। इसके साथ ही राजनगर  एक्सटेंशन में अंतराष्ट्रीय स्टेडियम से भोवापुर तक 3.50 किलोमीटर लंबे रोड का निर्माण में 29 करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा।

प्रधानमंत्री मोदी 60.50 करोड़ रुपये की लागत से बनाये जाने वाले हिंडन एयरपोर्ट का भी उद्घाटन करेंगे जिसका निर्माण 25 मार्च तक पूरा किया जाएगा। हवाईअड्डे के निर्माण के बाद 80 या उससे कम सीटों वाले हवाई जहाज़ों को यहाँ शिफ्ट कर दिया जायेगा। एयरपोर्ट की इमारत को बनाने में लगभग 40 करोड़ रुपयों का निवेश हुआ है। हिंडन एयरपोर्ट के निर्माण से पश्चिमी उत्तर प्रदेश व एनसीआर के लोगों को काफी लाभ मिलेगा।