समाचार
विकास दुबे का साथी अमर दुबे हमीरपुर में एसटीएफ के साथ मुठभेड़ में मारा गया

कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद से फरार चल रहे कुख्यात अपराधी विकास दुबे का करीबी साथी अमर दुबे बुधवार (8 जुलाई) सुबह हमीरपुर में पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) के साथ मुठभेड़ में मार दिया गया।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, यह मुठभेड़ हमीरपुर के मौदहा कोतवाली क्षेत्र के इंगोहटा मार्ग पर हुई थी। पुलिस ने तड़के करीब चार बजे अपराधी अमर को मार गिराया। इस दौरान कोतवाली प्रभारी मनोज कुमार शुक्ला घायल हो गए।

अमर दुबे पर 25,000 रुपये का इनाम घोषित था। वह गत सप्ताह कानपुर में चौबेपुर के बिकरू गाँव में आठ पुलिसकर्मियों की हत्या में शामिल था। एक पुलिस अधिकारी ने बताया, “गैंगस्टर विकास दुबे अब भी फरार है। उसकी तलाश में कई टीमें लगी हुई हैं।”

उधर, विकास दुबे हरियाणा के फरीदाबाद में राष्ट्रीय राजमार्ग के पास एक होटल में रुका था। उसके साथ दो और साथी भी थे। वह फरीदाबाद में रहने वाले अपने एक परिचित की मदद से दिल्ली की कोर्ट में समर्पण करने की तैयारी में था। एसटीएफ और हरियाणा पुलिस को जानकारी मिलने के बाद दबिश दी गई लेकिन उससे पहले ही वह फरार हो गया।

वहीं, चौबेपुर थाने में नए पुलिसकर्मियों की तैनाती कर दी गई। एसएसपी दिनेश कुमार पी ने मंगलवार (7 जुलाई) को पूरा थाना लाइन हाजिर कर दिया था। इसमें 68 पुलिसकर्मी शामिल थे। सबके खिलाफ जाँच शुरू हो गई है।

एसएसपी का कहना है कि जाँच में पाया गया कि विकास दुबे के संपर्क में थाने के सभी पुलिसकर्मी हैं। 13 दरोगा, 10 हेड कांस्टेबल, 45 कांस्टेबल के खिलाफ मुखबिरी के साथ अपराधी का साथ देने का आरोप है।