समाचार
गंगा एक्सप्रेसवे प्रयागराज व हरिद्वार तीर्थों को जोड़ेगा, योगी के कहने पर तेज़ हुआ काम

प्रयागराज से मेरठ तक बनने जा रहा गंगा एक्सप्रेसवे आगे जाकर हरिद्वार से जुड़ जाएगा। इस तरह इससे उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के दो बड़े तीर्थ स्थल आपस में जुड़ जाएँगे। वर्तमान में उत्तर प्रदेश में तीन एक्सप्रेसवे बन रहे हैं।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, औद्यौगिक विकास प्राधिकरण (यूपीडा) के मुख्य कार्यपालक अधिकारी और अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश अवस्थी ने बताया, “मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश के बाद इन परियोजनाओं पर तेज़ी से काम चल रहा है।”

उन्होंने बताया, “इससे यात्रियों की सहूलियत के साथ आर्थिक व औद्योगिक विकास होगा। साथ ही रोज़गार के नए अवसर बनेंगे। गंगा एक्सप्रेसवे को हरिद्वार तक ले जाने को लेकर दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों के बीच सहमति बन चुकी है। एक्सप्रेसवे को मेरठ के आगे ले जाकर दिल्ली-देहरादून एक्सप्रेसवे से जोड़ दिया जाएगा। इसके लिए पहले शुरुआती अध्ययन करवाया जाएगा।”

अवस्थी ने बताया, “पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का काम 64 प्रतिशत हो गया है और इसका मुख्य रास्ता अगले साल 26 जनवरी से खोल दिया जाएगा। बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे का काम 25 प्रतिशत हो गया है। इसे अगले साल दिवाली पर चालू करने की तैयारी है।”

हादसे रोकने के सवाल पर उन्होंने कहा, “एक्सप्रेसवे का सुरक्षा ऑडिट करवाया जा चुका है। ब्लाइंड स्पॉट चिह्नित कर उन्हें खत्म करवाया जा रहा है। आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे के मुकाबले पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का डिवाइडर एक मीटर चौड़ा है। यहीं पर क्रश बैरियर लगाए जाएँगे। कैमरे लगाकर अधिक स्पीड वालों का ई-चालान सारे एक्सप्रेसवे पर होगा। बसों के ड्राइवर को नींद न आए इसलिए उन्हें चाय पिलाने की व्यवस्था की गई है।”

मुख्य सचिव गृह ने आगे कहा, “एक एक्सप्रेसवे अगले वर्ष बनना शुरू होगा। दो का काम पहले से ही चालू है। इनकी कुल लंबाई 1,689 किमी होगी।”