समाचार
फ्यूचर समूह की न्यायालय से भंडारण सुविधा के बाहर से किसानों को हटाने की गुहार

फ्यूचर सप्लाई चेन सॉल्यूशंस लिमिटेड ने हरियाणा के पटियाला जिले की शंभू सीमा के पास अपनी भंडारण सुविधा के बाहर प्रदर्शनकारी किसानों की अवैध सभा को हटाने के लिए पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय का द्वार खटखटाया है।

टाइम्स ऑफ इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, समूह ने कहा कि 4 करोड़ रुपये की वस्तुएँ भंडारण सुविधा में रखे-रखे खराब हो रही हैं। अगर किसानों की सभा द्वारा की जा रही रुकावट को नहीं हटाया गया तो काफी उत्पाद जल्द ही खराब हो जाएँगे।

समूह ने अपनी याचिका में किसानों की नाकाबंदी को तत्काल हटाने और अपनी व्यावसायिक गतिविधियों को चलाने को सुरक्षित मार्ग प्रदान करने के लिए न्यायालय के निर्देश की मांग की।

याचिकाकर्ता समूह ने दावा किया कि 66 लाख रुपये के पैकेज्ड खाद्य पदार्थ, दालें और खाद्यान्न भंडारण की सुविधा खराब होकर नष्ट की जा चुकी है, जबकि आने वाले दिनों में 1.5 करोड़ रुपये की सामग्री और उत्पाद खराब होने की कगार पर पहुँच जाएँगे।

यह गौर किया जाना चाहिए कि किसान समूह को लगता है कि रिलायंस समूह फ्यूचर समूह की आपूर्ति शृंखला को खरीद रहा है। इसी को लेकर वे राजपुरा क्षेत्र में ग्राम शंभू कलां में स्थित भंडारण सुविधा के बाहर डेरा डाले हुए हैं। हालाँकि, यह समझौता अभी लंबित है क्योंकि इस अमेज़ॉन की ओर से सर्वोच्च न्यायालय में चुनौती दी गई थी।