समाचार
फ्रांस ने पाकिस्तान में हिंसा भड़कने के बाद अपने 15 राजनयिकों को वापस बुलाया

फ्रांस ने पाकिस्तान से अपने 15 राजनयिकों को वापस बुला लिया है। यह निर्णय पाकिस्तान में मोहम्मद जिन्हें मुसलमान अपना पैगंबर मानते हैं के कार्टून को लेकर कई दिनों से हो रही हिंसा के बाद लिया गया है। यह कदम संकेत देता है कि यूरोपीय देश के साथ पाकिस्तान के संबंध और अधिक बिगड़ गए हैं।

हिंदुस्तान लाइव की रिपोर्ट के अनुसार, फ्रांसीसी अखबार ले फिगारों में बताया गया कि पाकिस्तान में हिंसा के कारण अब तक 15 राजनयिक देश छोड़ चुके हैं या फिर वहाँ से निकलने की तैयारी में हैं। पाकिस्तान ने भी हिंसा फैलाने वाले कट्टर इस्लामी समूह तहरीक-ए-लब्बैक पर आतंकवादी विरोधी अधिनियम के तहत प्रतिबंध लगा दिया है।

बीते सप्ताह फ्रांस अपने नागरिकों और कंपनियों को अस्थायी तौर पर पाकिस्तान छोड़ने की सलाह दे चुका था। फ्रांसीसी दूतावास ने कहा था, “पाकिस्तान में फ्रांसीसी हितों के सामने गंभीर खतरा है। ऐसे में हमारी सलाह है कि फ्रांस के नागरिक और कंपनियाँ अस्थायी तौर पर देश से निकल जाएँ। ”

इसके बाद एयरलाइंस के माध्यम से फ्रांस के नागरिक पाकिस्तान से धीरे-धीरे करके जा रहे हैं। बता दें कि फ्रांस की इमैनुएल मैक्रों की सरकार ने व्यंग्य पत्रिका शार्ली हेब्दो में प्रकाशित मोहम्मद के कार्टूनों का बचाव किया गया था। इसके बाद से दोनों देशों के बीच संबंधों में दरार देखने को मिल रही है।