समाचार
आरबीआई का विदेश मुद्रा भंडार डॉलर-रुपया स्वैप कार्यक्रम से पहुँचा 412 अरब डॉलर

भारतीय रिज़र्व बैंक (आरबीआई) का पिछले हफ्ते बैंक डॉलर-रुपया स्वैप कार्यक्रम सफलापूर्वक होने से देश का विदेशी मुद्रा भंडार 29 मार्च को खत्म हुए सप्ताह में 5.237 अरब डॉलर की वृद्धि के साथ 411.905 अरब डॉलर के करीब पहुँच गया है। इसमें पांच अरब डॉलर की नीलामी के बदले 16 अरब डॉलर की नीलामी की बोली हासिल हुई।

वित्तीय प्रणाली में नकदी लाने के प्रयास के तहत आरबीआई ने यह नीलामी 26 मार्च को आयोजित की थी। इसमें रुपया जो पिछले साल तक सबसे खराब प्रदर्शन करने वाली एशियाई मुद्रा थी, अचानक सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाली मुद्रा में बदल गई। इसके लिए आरबीआई के विनिमय कार्यक्रम को हर तरफ से सराहना मिल रही है।

इस पहल के लिए मिली सकारात्मक प्रतिक्रिया को देखते हुए केंद्र बैंक ने 23 अप्रैल को फिर तीन वर्ष की अवधि के लिए पांच अरब डॉलर की स्वैप नीलामी आयोजित करने की घोषणा की है। यह बाजारों की तरलता को और बढ़ावा देगी। इससे बैंकों को अपनी उधार दरों को कम करने में मदद मिलेगी। साथ ही अर्थव्यवस्था में उधार गतिविधियों को बढ़ाने के लिए आरबीआई की बार-बार की दर कटौती में भी मदद मिलेगी।

आरबीआई ने कहा, “समीक्षाधीन सप्ताह में विदेशी मुद्रा भंडार का अहम हिस्सा मानी जाने वाली विदेशी मुद्रा परिसंपत्तियां 5.248 अरब डॉलर की वृद्धि के साथ 384.053 अरब डॉलर हो गईं।” देश का विदेशी मुद्रा भंडार इससे पहले 13 अप्रैल, 2018 को समाप्त सप्ताह में 426.02 अरब डॉलर के रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंच गया था।