समाचार
पाकिस्तान पर विदेश मंत्री जयशंकर का निशाना- “आतंकियों का उत्पादन प्राथमिक निर्यात”

अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम को लेकर भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा, “कई वांछित आतंकवादी पाकिस्तान में छिपे हुए हैं। पड़ोसी देश ने खुद उनके होने की बात स्वीकारी है। वह उनको रहने का ठिकाना देता है और प्रशिक्षण देकर उन्हें हमले के लिए भारत भेजता है।”

ज़ी न्यूज़ की रिपोर्ट के अनुसार, विदेश मंत्री ने कहा, “पाकिस्तान आतंकवादियों पर कार्रवाई को लेकर तनिक भी गंभीर नहीं है। उसने आतंकी संगठनों, अति वांछित मुजरिमों पर कोई निर्णायक कार्रवाई नहीं की है।”

उन्होंने आगे कहा, “आतंकवाद कैंसर है। यह महामारी की तरह ही सम्पूर्ण मानवता को प्रभावित करता है। जिन देशों ने आतंकवादियों के उत्पादन को प्राथमिक निर्यात के रूप में परिवर्तित किया, वे भी अपने आप को आतंकवाद के पीड़ित के रूप में पेश कर रहे हैं। अंतरराष्ट्रीय प्रणाली को आतंकवाद को समर्थन देने वाले ढाँचे को बंद करने के लिये ज़रूरी तंत्र बनाना होगा।”

सूत्रों के मुताबिक, दाऊद को बचाने के लिए आईएसआई ने उसे घर से बाहर बिल्कुल भी न निकलने को कहा है। उसके कराची वाले घर की सुरक्षा भी अधिक बढ़ा दी गई है। दाऊद पाकिस्तान की सभी एजेंसियों के पास अपनी सुरक्षा को लेकर निवेदन कर चुका है।

बीते दिनों दाऊद और महविश हयात के रिश्तों का खुलासा किया गया था। इसके बाद उसने ट्वीट करते हुए जवाब दिया था, “मेरे खिलाफ जो गलत आरोप लगाए जा रहे हैं, मैं उन बयानों को महत्व नहीं देना चाहती हूँ।”

महविश ने फिल्मी पर्दे पर 2010 में अपनी शुरुआत एक आइटम सॉन्ग से की थी। वह दाऊद इब्राहिम से रिश्तों का सहारा लेकर पाकिस्तान की तमगा-ए-इम्तियाज़ बन गई। वह हमेशा भारत के लिए सख्त लफ्ज़ों का सहारा लेती है। उसने हाल ही में कहा था कि मुझे कश्मीर पर बोलने से कोई नहीं रोक सकता है।