समाचार
जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद का रास्ता छोड़ अपने परिवार के पास लौटे पाँच युवक

जम्मू-कश्मीर में शांति की दिशा में कदम बढ़ाते हुए विभिन्न आतंकवादी संगठनों में शामिल होने वाले पाँच युवकों ने हथियार डाल दिए और अपने परिवारों के पास लौट आए हैं।

द हिंदू की रिपोर्ट के अनुसार, पुलिस ने बताया, “सभी पाँचों युवकों ने हिंसा का रास्ता छोड़ दिया है। वे अपने परिवार और पुलिस की कोशिशों के बाद मुख्यधारा में लौट आए हैं।”

सुरक्षा वजहों से पुलिस ने वापस लौटने वाले युवकों की पहचान को सार्वजनिक न करने का फैसला किया है। इन विद्रोहियों के हिंसा का रास्ता छोड़ने की प्रमुख वजह उनके परिवारवालों द्वारा की जा रही अपील मानी जा रही है।

सुरक्षा बलों की सबसे बड़ी उपलब्धि यही है कि 2017 के बाद से कश्मीर घाटी में कई आतंकवादियों ने हथियार डाल दिए हैं। पुलिस ने पहले ही घोषणा कर दी थी कि आतंकवाद के खिलाफ अभियान चलाए जाने से पहले जो स्थानीय आतंकवादी आत्मसमर्पण कर देंगे, उनकी पेशकश को स्वीकार कर लिया जाएगा।