समाचार
जम्मू-कश्मीर में पाँच हुर्रियत नेताओं की दंगा न फैलाने की शर्त पर रिहाई

जम्मू-कश्मीर में हुर्रियत नेता मीरवाइज उमर फारूक और चार अन्य कश्मीरी नेताओं को प्रशासन की तरफ से रिहा कर दिया है।

हुर्रियत कांफ्रेंस के अध्यक्ष मीरवाइज उमर फारूक उन पाँच हिरासत में लिए गए कश्मीरी नेताओं में से हैं, जिन्होंने अपनी रिहाई के लिए अधिकारियों के सामने बॉन्ड भरा है। उनके अलावा नेशनल कॉन्फ्रेंस के पूर्व विधायक, पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) के एक पूर्व विधायक और पीपुल्स कॉन्फ्रेंस के नेता रिहा किए गए लोगों में हैं।

शीर्ष खुफिया सूत्रों ने श्रीनगर में समाचार एजेंसी आईएएनएस को बताया, “यह लगभग एक पखवाड़े पहले हुआ है। अलगाववादी नेता मीरवाइज उमर फारूक कई अन्य हिरासत में लिए गए राजनेताओं में से हैं, जिन्होंने अपनी रिहाई के लिए बॉन्ड पर हस्ताक्षर किए हैं।”

बॉन्ड के अलावा इन राजनेताओं को हिदायत दी गई है कि एक बार हिरासत से मुक्त होने के बाद वे घाटी में कानून और व्यवस्था की स्थिति बिगाड़ने के लिए किसी भी गतिविधि में लिप्त नहीं होंगे।

गौरतलब है कि राज्य के तीन पूर्व मुख्यमंत्री, फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती समेत लगभग 40 मुख्यधारा के राजनेताओं में से हैं, जिन्हें 5 अगस्त को संसद द्वारा अनुच्छेद 370 को रद्द करने से पहले हिरासत में लिया गया था।