समाचार
दशकों में पहली बार- गृह मंत्री के कश्मीर दौरे पर बंद नहीं, अमरनाथ सुरक्षा का जायज़ा

आतंकवादियों पर अभूतपूर्व कार्रवाई के बाद आश्चर्य की बात है कि गृह मंत्री अमित शाह के जम्मू और कश्मीर दौरे पर अलगाववादियों ने बंद या विरोध प्रदर्शन का आह्वान नहीं किया। बुधवार (26 जून) को श्रीनगर पहुँचकर उन्होंने कई बैठकों की अध्यक्षता की और विकासशील परियोजनाओं का जायज़ा लिया।

इस दौरे का मुख्य उद्देश्य सुरक्षा सक्रियता थी। अमरनाथ यात्रा के विषय में शाह को बताया गया कि “त्रुटिरहित तैयारियाँ और हमले की स्थिति में विभिन्न दर्जों की सुरक्षा व्यवस्था है।”, द हिंदू  ने रिपोर्ट किया। इस बैठक में जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक भी थे।

मंत्री आतंकवादियों द्वारा मारे गए भाजपा नेताओं के परिवारों व घाटी के शीर्ष भाजपा नेताओं से भी मिले। आज वे नियंत्रण रेखा के पार से हो रही घुसपैठ का निरीक्षण करेंगे।

कुछ दिन पहले ही हुर्रियत नेताओं ने भारत सरकार से वार्ता का प्रस्ताव रखा था। लोकसभा चुनावों में भाजपा की प्रचंड जीते के बाद आए इस प्रस्ताव का स्वागत राज्यपाल मलिक ने किया था।