समाचार
तांडव के खिलाफ लखनऊ में प्राथमिकी दर्ज, सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय का समन जारी

वेब सीरीज़ तांडव के निर्देशक अली अब्बास जफर सहित कई लोगों के खिलाफ उत्तर प्रदेश के लखनऊ में प्राथमिकी दर्ज की गई है। इसमें हिंदू देवी-देवताओं के अपमान और प्रदेश की पुलिस की छवि को धूमिल करने का आरोप लगाया गया है।

टाइम्स नाऊ हिंदी की रिपोर्ट के अनुसार, लखनऊ के हजरतगंज स्थित पुलिस थाने में दर्ज हुई प्राथमिकी में आरोप लगाया गया कि वेब सीरीज़ के माध्यम से समाज के विभिन्न वर्गों में द्वेष फैलाया जा रहा है।

प्राथमिकी में अली अब्बास जफर सहित अमेज़ॉन की अपर्णा पुरोहित, निर्माता हिमांशु और लेखक गौरव सोलंकी सहित कुछ अज्ञात लोगों को आरोपी बनाया गया है।

इस बाबत बसपा प्रमुख मायावती ने ट्वीट कर कहा, “वेब सीरीज़ में धार्मिक व जातीय भावनाओं को आहत करने वाले कुछ दृश्यों को लेकर विरोध दर्ज हो रहे हैं। इसमें जो भी आपत्तिजनक है, उसे हटा देना उचित होगा, ताकि देश में कहीं भी शांति सौहार्द व आपसी भाईचारे का वातावरण खराब न हो।”

इसके अतिरिक्त, वेब सीरीज़ को लेकर लोगों में बढ़ते विरोध को देखते हुए अमेज़ॉन प्राइम वीडियो के अधिकारियों को सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने समन भी जारी किया है।

बता दें कि भाजपा के कई नेताओं ने तांडव वेब सीरीज़ पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है। रविवार (17 जनवरी) को भाजपा विधायक राम कदम ने मुंबई के घाटकोपर पुलिस स्टेशन में इसको लेकर शिकायत की थी। उन्होंने सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय को इस पर प्रतिबंध लगाने के लिए पत्र भी लिखा था।