समाचार
उत्तर प्रदेश पुलिस का भय- पकड़े जाने के डर से अपहरणकर्ता ने खुद को गोली मारी

उत्तर प्रदेश में एक अपराधी ने व्यापारी के बच्चे का अपरहरण कर तीन करोड़ रुपये की फिरौती माँगी। पीड़ित पिता की शिकायत के कुछ घंटे बाद जब पुलिस ने अपराधी को चारों ओर से घेर लिया तो उसने खुद को ही गोली मार ली। यह घटना दर्शाती है कि प्रदेश में अपराधियों के मन में उप्र पुलिस का कितना भय है।

पत्रकार राजशेखर झा के अनुसार, प्रयागराज से एक व्यापारी के बच्चे का उसके पूर्व चालक ने ही अपहरण कर लिया था। बच्चे को छोड़ने के बदले अपहरणकर्ता ने तीन करोड़ रुपये की फिरौती माँगी थी। अपने बेटे को छुड़ाने के लिए पीड़ित पिता ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई।

पुलिस ने अपराधी को पकड़ने के लिए कार्रवाई शुरू की। कुछ घंटे बाद ही पुलिस ने अपराधी को उसके ठिकाने से गिरफ्तार करने के लिए घेराबंदी की। इसपर पुलिस से घिरा देख अपराधी ने खुद को ही गोली मार ली। बच्चे को सकुशल बचाकर उसके अभिभावकों के पास भेज दिया गया है।

उत्तर प्रदेश में जब से योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली भाजपा सरकार आई है, तब से अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई तेज कर दी गई है।पुलिस-प्रशासन की रिपोर्ट पर गौर करें तो योगी सरकार के कार्यकाल के दौरान 10,000 हजार से अधिक अपराधियों ने अपनी ज़मानत ख़ारिज कर वापस जेल लौटने का फैसला किया है।

ऐसा इसलिए क्योंकि पुलिस ने अपराधियों पर लगाम कसने के लिए अभियान शुरू किया था। इसमें उसने 63 खूँखार अपराधियों को मार गिराया था। इसके अलावा, 650 मुठभेड़ों में वांछित अपराधियों को घायल किया और 3430 को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।