समाचार
एफएटीएफ एपीजी ने मानकों पर खरा न उतरने पर पाकिस्तान को काली सूची में डाला

पाकिस्तान को वित्तीय कार्रवाई कार्य बल के एशिया-प्रशांत समूह (एफएटीएफ एपीजी) ने अब मानकों पर खरा नहीं उतरने के कारण काली सूची में डाल दिया है। इससे पूर्व उसे वित्तीय कार्रवाई कार्य बल (एफएटीएफ) पहले ही संदिग्ध सूची में डाल चुका है।

आजतक की रिपोर्ट के अनुसार, एफएटीएफ एपीजी की रिपोर्ट में पाकिस्तान अपने कानूनी और वित्तीय प्रणालियों के लिए 40 मानकों में से 32 को पूरा करने में अक्षम रहा है। यही नहीं, आतंकियों को धन मुहैया कराने के खिलाफ सुरक्षा उपायों के लिए 11 मापदंडों में से 10 को पूरा करने में विफल रहा है।

अब पाकिस्तान अक्टूबर में काली सूची में डाला जा सकता है क्योंकि एफएटीएफ की 27 बिंदुओं की कार्ययोजना की 15 महीने की अवधि अक्टूबर में खत्म होने वाली है। एपीजी की रिपोर्ट के बाद उसके काली सूची में डाले जाने की संभावनाएँ अधिक बढ़ गई हैं।

एफएटीएफ की ऑस्ट्रेलिया के कैनबरा में बैठक चल रही है। यहाँ पाकिस्तानी से जुड़ी म्युचुअल इवेल्यूशन रिपोर्ट (एमईआर) पेश होनी है। इससे पहले पाकिस्तान ने एफएटीएफ को अनुपालन रिपोर्ट सौंपी, जिसमें 27 सूत्रीय कार्ययोजना का उल्लेख है।

एफएटीएफ एपीजी ने पाया कि इस्लामाबाद की ओर से कई मोर्चों में कमियाँ हैं। साथ ही मनी लॉन्ड्रिंग से आतंकियों को धन मुहैया कराने से रोकने के लिए की जा कोशिशों में भी कई तरह की खामियाँ हैं। पाकिस्तान की ओर से 50 पैमानों पर सुधार के दावों को लेकर कोई समर्थन नहीं मिल रहा है।