समाचार
पुलवामा हमले में इस्तेमाल विस्फोटक महिलाओं-बच्चों द्वारा सीमा पार से आया था

शीर्ष खुफिया सूत्रों के अनुसार पुलवामा आतंकी हमले में इस्तेमाल किए गए विस्फोटकों को भर्ती किए गए महिलाओं और बच्चों के माध्यम से एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाया गया था, ज़ी मीडिया की रिपोर्ट ने बताया।

रिपोर्ट के अनुसार, विस्फोटकों को कुछ महीनों की अवधि में सीमा पार से स्थानांतरित किया गया था, जबकि विस्फोटक को ट्रिगर करने के लिए सक्रिय तंत्र स्थानीय रूप से बनाया गया था। दोनों घटकों को कथित तौर पर हमले से कुछ दिन पहले बम में फिट किया गया था।

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के काफिले पर 14 फरवरी को जम्मूकश्मीर के पुलवामा जिले के अवंतीपोरा के पास लेथपोरा में आतंकी संगठन जैशमोहम्मद (जेईएम) के एक वाहनजनित आत्मघाती हमलावर आदिल अहमद डार ने हमला किया था। हमले में सीआरपीएफ के कम से कम 40 जवान शहीद हो गए जबकि कई अन्य घायल हो गए।

रिपोर्ट के अनुसार हमले में इस्तेमाल किया गया आरडीएक्स मिलिट्री 5 ग्रेड श्रेणी का था और कुछ महीनों की अवधि में सीमा के पार महिलाओं और बच्चों द्वारा ले जाया गया था।

भारतीय खुफिया एजेंसियों के अनुसार आरडीएक्स को रावलपिंडी में पाकिस्तानी सेना द्वारा खरीदा गया था जिसे बाद में जेएम ऑपरेटर्स को सौंप दिया गया। पुलवामा के त्राल गांव में बैकपैक, सिलेंडर और कोयले की थैलियों का उपयोग कर इसकी तस्करी की गई थी।

14 फरवरी के हमले के लिए पुलवामा में कथित तौर पर 300 किलोग्राम के सभी विस्फोटक जमा हुए थे। आरडीएक्स को कथित तौर पर तीन ड्रमों में ले जाया गया था और गंजगोलों और अमोनियम नाइट्रेट के साथ मिलाया गया था जिसका ऑक्सीकारक के रूप में उपयोग किया जाता है। ड्रम्स को उस वाहन में लगाया  गया था जिसका इस्तेमाल आत्मघाती हमलावर ने सीआरपीएफ के काफिले पर हमला करने के लिए किया था।